वायु सेना कमांडो तैनात करेगी

पीवी नायक
Image caption वायु सेना ने सरकार से जवाबी कार्रवाई की अनुमति मांगी है

भारतीय वायु सेना ने कहा है कि वह नक्सल प्रभावित इलाक़ों में अपने कमांडो यूनिट को तैनात करेगी ताकि अपने हेलिकॉप्टरों और जवानों की रक्षा की जा सके.

हालाँकि उन्होंने ये स्पष्ट कर दिया कि माओवादियों के ख़िलाफ़ 'रैम्बो स्टाइल' में कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी.

भारतीय वायु सेना के प्रमुख एयर चीफ़ मार्शल पीवी नायक ने उत्तर प्रदेश के हिंडन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि माओवादी प्रभावित इलाक़ों में वायु सेना के हेलिकॉप्टरों पर गरुड़ विशेष बल के जवान मौजूद रहेंगे.

उन्होंने बताया कि कमांडो की तैनाती बचाव कार्यों के अलावा वायु सेना के जवानों और उपकरणों की रक्षा करेंगे.

फ़ैसला

77वें वायु सेना दिवस परेड के मौक़े पर एयर चीफ़ मार्शल ने कहा, "ये 'रैम्बो' की तरह कुछ भी करने की इजाज़त नहीं होगी. हम वहाँ जाकर गोलीबारी नहीं करेंगे. वायु सेना के हेलिकॉप्टर पर बंदूकें रहेंगी और गरुड़ के जवान भी मौजूद रहेंगे."

अपने बचाव में माओवादियों पर गोलीबारी के लिए सरकार से अनुमति के बारे में उन्होंने कहा कि सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति इस पर फ़ैसला करेगी.

एयर चीफ़ मार्शल पीवी नायक ने कहा, "मैं ये बात दोहराना चाहता हूँ कि मैं आंतरिक मामलों में वायु सेना, नौ सेना या थल सेना के इस्तेमाल के ख़िलाफ़ हूँ. हम सीमापार से आने वाले ख़तरों से निपटने के लिए हैं."

हालाँकि उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि अगर राज्यों को किसी तरह की सहायता की आवश्यकता होगी, तो हम बचाव कार्यों में सहायता के लिए तैयार रहेंगे.

संबंधित समाचार