पाकिस्तान पर तालेबान का कहर, 37 मरे

पाकिस्तान में लाहौर और कोहाट शहर में सुनियोजित तरीक़े से कुछ पुलिस ठिकानों पर हुए हमलों में कम-से-कम 37 लोग मारे गए हैं.

लाहौर में बंदूकधारियों ने संघीय जाँच एजेंसी के मुख्यालय और दो पुलिस प्रशिक्षण केंद्रों पर हमले किए जिसमें कम-से-कम 26 लोग मारे गए.

पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत के कोहाट शहर में भी एक पुलिस थाने के पास बम धमाका हुआ जिससे कम-से-कम 11 लोगों की मौत हो गई.

इसके अलावा पश्चिमोत्तर प्रांत में ही पेशावर शहर में एक रिहाइशी इलाक़े में भी एक कार बम फटा जिससे एक बच्ची मारी गई और लगभग 20 लोग घायल हो गए.

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने कहा है कि तालेबान ने लाहौर हमलों की ज़िम्मेदारी स्वीकार कर ली है.

पाकिस्तान में पिछले दो हफ़्तों में कई चरमपंथी हमले हुए हैं जिनसे डेढ़ सौ से अधिक लोगों की जान जा चुकी है.

लाहौर में हमले

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की राजधानी लाहौर में कुछ हमलावरों ने करीब एक ही समय संघीय जांच एजेंसी के कार्यालय और दो पुलिस प्रशिक्षण केंद्रों को निशाना बनाया.

पहला हमला शहर के मध्य में स्थित संघीय जांच एजेंसी के कार्यालय पर हुआ.

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि चार हमलावरों ने सुबह साढ़े नौ बजे के क़रीब संघीय जांच एजेंसी पर हमला किया जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने भी जवाबी गोलीबारी की. इस हमले में चारों हमलावर और तीन पुलिसकर्मी मारे गए.

एक प्रत्यक्षदर्शी शौकत अली ने बीबीसी को बताया,"हमने देखा कि एक साँवले रंग का व्यक्ति, जिसकी हल्की-हल्की दाढ़ी थी, फ़ायरिंग करता भाग रहा है. उसने गली में मस्जिद पर भी गोलियाँ चलाईं और फिर हमने उसे एफ़आईए की इमारत में दाख़िल होते हुए देखा जिसके बाद धमाकों और भीषण गोलीबारी की आवाज़ आई."

पाकिस्तान के गृह मंत्रि रहमान मलिक ने बाद में पत्रकारों से कहा,”तालेबान ने लाहौर हमलों की ज़िम्मेदारी स्वीकार कर ली है.”

संघीय जाँच एजेंसी के कार्यालय पर पिछले वर्ष मार्च में भी आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें लगभग 20 लोग मारे गए थे.

इसके अलावा लाहौर में दो पुलिस प्रशिक्षण केंद्रों पर भी हमले हुए जिनमें पुलिसकर्मियों और हमलावरों समेत 19 लोग मारे गए.

इनमें एक हमला मनावां पुलिस ट्रेनिंग एकेडमी पर हुआ जहाँ तीन आत्मघाती हमलावरों ने ख़ुद को बम से उड़ा लिया. धमाके में आठ पुलिसकर्मी भी मारे गए.

इस पुलिस एकेडमी पर इस साल मार्च में भी हमला हुआ था जिसमें लगभग 20 लोग मारे गए थे.

इसके अलावा एक हमला बेदियां एकेडमी पर भी हुआ जहाँ कमांडो प्रशिक्षण दिया जाता है.

कोहाट में हमला

कोहाट में एक आत्मघाती हमलावर ने सैनिक छावनी के इलाक़े में एक पुलिस स्टेशन को निशाना बनाया.

इस हमले में 11 लोग मारे गए और 20 के क़रीब घायल हो गए.

कोहाट के एक पुलिस अधिकारी फज़ल नईम ने बीबीसी को बताया कि आत्मघाती हमलावर ने बारूद से भरी गाड़ी पुलिस स्टेशन से टकरा दी.

कोहाट पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत की राजधानी पेशावर से 60 किलोमीटर दक्षिण में है.

छापामार युद्ध

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक का कहना है कि सेना मुख्यालय पर हमले के बाद ऐसे हमलों की आशंका पहले से व्यक्त की जा रही थी.

उन्होंने कहा, "ये छापामार युद्ध की तरह है और आने वाले दिनों में भी हमले हो सकते हैं."

लाहौर और कोहाट में हुए हमलों के बाद राजधानी इस्लामाबाद में सुरक्षा के प्रबंध कड़े कर दिए गए हैं और शहर में सभी चौकियों पर अर्धसैनिक बलों को तैनात कर दिया गया है.

पाकिस्तान में तीन दिन पहले ही पाकिस्तानी फ़ौज के एक काफ़िले पर हुए संदिग्ध आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें कम-से-कम 40 लोग मारे गए थे.

इसके एक दिन पहले चरमपंथियों ने रावलपिंडी में पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय पर हमला किया था जिसमें 20 लोग मारे गए.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है