भ्रष्टाचार से लड़ेंगे करज़ई ?

करज़ई
Image caption राष्ट्रपति पद के लिए पहले दौर में हुए चुनाव में काफ़ी धांधली की ख़बर मिली थी

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने फिर से राष्ट्रपति निर्वाचित होने के बाद कहा है कि वो भ्रष्टाचार के 'कलंक' को ख़त्म करके मानेंगे.

संवाददाताओं से बातचीत करते हुए करज़ई ने कहा कि वो एक ऐसी सरकार का नेतृत्व करने की कसम खाते हैं जो सभी अफ़ग़ानों के लिए काम करेगी.

इससे पहले अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अफ़गानिस्तान में राष्ट्रपति हामिद करज़ई के चुनाव को वैध बताया था लेकिन साथ ही कहा था कि उन्हें भ्रष्टाचार को रोकने के लिए कदम उठाने होंगे.

ओबामा ने कहा था कि करज़ई के नए शासनकाल में लोग उन्हें काम से जानेंगे न कि उनकी बातों से.

करज़ई ने तालेबान लड़ाकों से 'अफ़ग़ानिस्तान की धरती से प्यार' करने की भी अपील की है.

ग़ौरतलब है कि रविवार को राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले दूसरे दौर के चुनाव से पहले विपक्षी नेता अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने ये कहते हुए चुनाव से हटने की घोषणा कर दी कि वे नहीं समझते कि दूसरे दौर का चुनाव निष्पक्षता से करवाया जा सकता है.

साख पर आँच

इसके बाद चुनाव पर्यवेक्षकों ने शनिवार को निर्धारित दूसरे दौर के चुनाव को रद्द करने की घोषणा की थी.

क़रजई ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यदि अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह चुनाव लड़ते तो बेहतर होता.

उन्होंने कहा, "देश में लोकतांत्रिक प्रक्रिया और हमारे देश के लिए ये बेहतर होता यदि हमारे भाई डॉक्टर अब्दुल्लाह चुनाव में भाग लेते और दूसरे दौर का चुनाव संपन्न होता."

अफ़ग़ानिस्तान में पहले दौर का चुनाव 20 अगस्त को हुआ था और प्रारंभिक मतगणना में हामिद करज़ई की जीत पक्की बताई जा रही थी.

लेकिन बाद में जाँच में चुनाव में व्यापक धाँधली के आरोपों को सही पाया गया जिसके बाद पहले दौर के चुनाव में कोई फ़ैसला नहीं हो पाया और तब दूसरे दौर के चुनाव की नौबत आई.

करज़ई ने कहा, "प्रशासनिक भ्रष्टाचार की वजह से हमारी सरकार को अपनी साख गँवानी पड़ी. हम अपनी ज़मीन और अपने देश से इस दाग को हटाने की हर संभव कोशिश करेंगे."

उन्होंने कहा कि वे उन सभी लोगों के साथ काम करेंगे जिन्होंने चुनाव में उनका पक्ष लिया या विरोध किया.

संबंधित समाचार