नेपाल में माओवादियों का प्रदर्शन

प्रदर्शन
Image caption पिछले साल ही हथियार छोड़कर चुनावी राजनीति में आए हैं माओवादी

नेपाल की राजधानी काठमांड़ू में हज़ारों माओवादियों ने सत्तारुढ़ गठबंधन सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया है.

प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें भी हुई हैं.

प्रदर्शनकारियों ने राजधानी में मुख्य सरकारी इमारत को घेर रखा था और उन्होंने इमारत में प्रवेश के सारे मार्ग बंद कर रखे थे.

उन्हें तितर बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और अश्रुगैस के गोले भी छोड़े.

पिछले मई में सत्ता से अलग होने के बाद से यह माओवादियों का सबसे बड़ा प्रदर्शन है.

उनकी मांग है कि राष्ट्रपति के अधिकारों को लेकर संसद में बहस करवाई जानी चाहिए.

पिछले साल नेपाल में हुए चुनाव में माओवादियों ने हिस्सा लिया था और सबसे बड़ी पार्टी के रुप में उभरे थे, लेकिन सेना प्रमुख को बर्खास्त किए जाने के सरकार के फ़ैसले को जब राष्ट्रपति राम बरन यादव ने पलट दिया तो विरोध स्वरुप वे सरकार से हट गए.

माओवादियों का आरोप है कि सेना प्रमुख हज़ारों पूर्व माओवादियों को सेना में शामिल किए जाने के प्रस्ताव का विरोध कर रहे थे.

गुरुवार को हुए प्रदर्शन के दौरान सड़कों पर यातायात जाम रहा.

प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे थे. एक प्रदर्शनकारी संचलाल वाइबा ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा, "नेपाल गणतंत्र ज़रुर बन गया है लेकिन अभी जनता का सही राज अभी आना बाक़ी है."

बीबीसी के काठमांडू संवाददाता जोना जॉली का कहना है कि प्रदर्शनकारियों में बहुत से युवा थे, जो देश के अलग-अलग हिस्सों से बसों के ज़रिए काठमांडू पहुँचे थे.

माओवादियों का प्रदर्शन शुक्रवार को भी जारी रहने के आसार हैं.

वैसे माओवादियों ने कहा है कि वे अपनी मांगे पूरी होने तक प्रदर्शन करते रहेंगे.

संबंधित समाचार