अफ़ग़ान सैनिकों के लिए समयसीमा

हामिद करज़ई
Image caption हामिद करज़ई ने फिर राष्ट्रपति पद संभाला

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई चाहते हैं कि पाँच वर्ष के अंदर अफ़ग़ान सैनिक देश की ज़िम्मेदारी संभाल लें.

राष्ट्रपति पद की फिर से शपथ लेने के बाद अपने भाषण में करज़ई ने भ्रष्टाचार के अहम मुद्दे का भी ज़िक्र किया और कहा कि उनके मंत्रियों को ईमानदार और योग्य बनना होगा.

उन्होंने भ्रष्टाचार के मुद्दे और अफ़ग़ानिस्तान में शांति के मुद्दे पर एक सम्मेलन बुलाने की भी घोषणा की.

हामिद करज़ई ने राष्ट्रपति चुनाव में अपने प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवारों से अपील की कि वे सभी उनके साथ मिलकर देश में शांति स्थापना के लिए काम करें.

हामिद करज़ई के शपथ ग्रहण समारोह को देखते हुए राजधानी काबुल में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. काबुल की सड़कें क़रीब-क़रीब ख़ाली थी.

अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पूरी तरह बंद था और सार्वजनिक छुट्टी की घोषणा की गई थी. एहतियाती क़दमों के तहत लोगों को घर में ही रहने की सलाह दी गई थी.

प्रतिनिधि

हामिद करज़ई के शपथ ग्रहण समारोह में 40 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. इनमें प्रमुख थीं अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन.

इनके अलावा पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी और ब्रिटेन के विदेश मंत्री डेविड मिलिबैंड ने भी समारोह में हिस्सा लिया.

अपने भाषण में राष्ट्रपति करज़ई ने कहा कि अफ़ग़ान सैनिकों को मज़बूत करना पड़ेगा और अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की भूमिका कम करनी होगी.

उन्होंने कहा, "हम उम्मीद करते हैं आने वाले पाँच वर्षों में अफ़ग़ान सैनिक पूरे देश की सुरक्षा और स्थिरता का नेतृत्व करेंगे."

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर राष्ट्रपति करज़ई ने कहा कि अच्छे प्रबंधन से ही सुशासन आता है. उन्होंने कहा कि वे इसका ध्यान रखेंगे कि उनके मंत्री सक्षम और ईमानदार हों.

समस्या

राष्ट्रपति करज़ई ने कहा, "भ्रष्टाचार ख़तरनाक समस्या है. हम जल्दी ही इस समस्या के समाधान के लिए नए और प्रभावी क़दम उठाने की दिशा में एक सम्मेलन का आयोजन करेंगे."

उन्होंने कहा कि पिछले आठ साल की ग़लतियों और कमियों से सबक सीखने की आवश्यकता है. देश में शांति की स्थापना के लिए उन्होंने लोया जिरगा बुलाने की भी बात कही.

करज़ई ने राष्ट्रपति चुनाव में अपने प्रमुख प्रतिद्वंद्वी अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह से अपील की कि वे देश में शांति और संपन्नता के लिए मिल कर काम करें.

उन्होंने मादक दवाओं की तस्करी और उत्पादन रोकने के लिए क़दम उठाने का भी वादा किया.

संबंधित समाचार