बेनज़ीर हत्या: जाँच की अवधि बढ़ी

बेनज़ीर भुट्टो
Image caption वर्ष 2007 में एक रैली के दौरान बेनज़ीर की हत्या कर दी गई थी

पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की हत्या के तथ्य और परिस्थितियाँ जानने वाले संयुक्त राष्ट्र के जाँच आयोग की अवधि तीन महीने के लिए बढ़ा दी गई है.

बेनज़ीर भुट्टो की दिसंबर 2007 में रावलपिंडी में एक चुनावी रैली के दौरान हुए धमाके में हत्या हो गई थी.

तीन सदस्यीय आयोग को जाँच के लिए शुरुआती तौर पर छह महीने का समय दिया गया था, जो गुरुवार को ख़त्म हो गया था.

जाँच का काम पूरा नहीं होने पर आयोग ने अवधि बढ़ाने की अपील की थी.

हत्या की वजह

ये अपील आयोग के प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र में चिली के राजदूत हेराल्डो मुनोज़ की ओर से महासचिव बान की मून से की गई थी जिसे उन्होंने मंज़ूरी दे दी.

आयोग ने अब तक की जाँच के दौरान पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ समेत कई प्रर्मुख नेताओं और शख़्सियतों से मुलाकातें की हैं.

आयोग को बेनज़ीर के क़त्ल के पीछे तथ्य क्या थे और किन परिस्थितियों में उनकी हत्या हुई, इस पर रिपोर्ट प्रस्तुत करनी है.

बेनज़ीर की हत्या की जाँच करने वाले इस आयोग में हेराल्डो मुनोज़ के अलावा इंडोनेशिया के एक पूर्व एटॉर्नी जनरल और आयरलैंड के एक पूर्व पुलिस अधिकारी सदस्य हैं.

संबंधित समाचार