अफ़ग़ान सेना में होंगे 1.7 लाख सैनिक

अफ़गानिस्तान
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में ब्रितानी राजदूत ने काबुल पर और हमले होने की चेतावनी दी है

अफ़गानिस्तान की सरकार और उसके अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के बीच सहमति बनी है कि अगले साल के अंत तक एक लाख अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा.

अफ़ग़ान अधिकारियों, संयुक्त राष्ट्र और अंतरराष्ट्रीय सहयोगी देशों के संयुक्त दल का कहना है कि वह अफ़ग़ानिस्तान की सेना की संख्या एक लाख 70 हज़ार तक पहुचाना चाहता है.

इस दल का ये भी कहना है कि देश में पुलिस कर्मियों की संख्या एक लाख 30 हज़ार से अधिक होनी चाहिए.

ये फ़ैसले उस समय लिए गए हैं जब एक हफ़्ते बाद लंदन में अफ़ग़ानिस्तान की आर्थिक मदद के लिए अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन होने जा रहा है.

उधर अफ़ग़ानिस्तान में ब्रिटेन के राजदूत मार्क सेडविल ने चेतावनी दी है कि काबुल में विद्रोहियों के और हमले हो सकते हैं जिस तरह के हमले वहाँ सोमवार को हुए थे.

उनका कहना था कि ऐसी चिंता जताई जा रही है कि लंदन में अफ़ग़ानिस्तान पर सम्मेलन से पहले तालेबान लड़ाके सम्मेलन को निर्रथक बनाने के मक़सद से चौंकाने वाले हमले कर सकते हैं.

संख्या बढ़ाना एक चुनौती

बीबीसी संवाददाता मार्टिन वेन्नार्ड के अनुसार सेना और पुलिस की संख्या इतनी बढ़ानी अफ़ग़ानिस्तान की सरकार और उसके अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के लिए एक चुनौती होगी.

अब तक अफ़ग़ान सेनाओं को आर्थिक तंगी, संयंत्रों के अभाव और विश्वास योग्य कर्मियों की कमी से जूझना पड़ा है.

ग़ौरतलब है कि अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ये कह चुके हैं कि वे जुलाई 2011 तक अफ़ग़ानिस्तान से सेनाओं को हटाने की प्रक्रिया की शुरुआत करना चाहते हैं.

वे चाहते हैं कि इसके बाद अफ़ग़ान लोग ख़ुद अपनी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी उठाएँ और इसमें सक्रिय भूमिका निभाएँ.

संबंधित समाचार