'तालेबान को पैसा देने की योजना को समर्थन है'

हामिद करज़ई
Image caption करज़ई ने ज़ोर देकर कहा कि ये योजना अल क़ायदा के सदस्यों के लिए नहीं है

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने कहा है कि विद्रोह त्याग देने वाले तालेबान लड़ाकों को नौकरियाँ और पैसा देने की उनकी योजना को ब्रिटेन और अमरीका का समर्थन हासिल है.

बीबीसी के साथ विशेष बातचीत में उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में किसी भी कीमत पर शांति कायम करनी ज़रूरी है.

राष्ट्रपति करज़ई ने पिछले साल राष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनावों में धांधली के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा है कि मीडिया और पश्चिमी देशों में इन्हें ग़लत तरीके से पेश किया गया.

हाँ, ताकत के हिसाब से मेरी सरकार कमज़ोर है. इसका मतलब पैसा, संयंत्र, मानवशक्ति और क्षमता है....दुर्भाग्य से हमारे पश्चिमी सहयोगियों ने हमारे चुनाव को बहुत ग़लत तरीके से देखा है.. राष्ट्रपति हामिद करज़ई

उन्होंने ये भी कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में भ्रष्टाचार की समस्या इतनी गंभीर नहीं है जिस तरह से उसे पश्चिमी देशों में पेश किया गया है. लेकिन उनका ये भी कहना था कि उनके सहयोगी देशी को व्यावहारिक उम्मीदें रखनी चाहिए.

'अल क़ायदा सदस्यों के लिए नहीं'

राष्ट्रपति करज़ई ने बीबीसी के साथ विशेष बातचीत में ज़ोर देकर कहा कि जो तालेबान लड़ाके अल क़ायदा या फिर किसी अन्य ‘आतंकवादी’ संगठन के सदस्य हैं, उन्हें इस योजना के तहत कुछ नहीं दिया जाएगा.

राष्ट्रपति करज़ई ने बीबीसी के साथ विशेष बातचीत में ज़ोर देकर कहा कि जो तालेबान लड़ाके अल क़ायदा या फिर किसी अन्य ‘आतंकवादी’ संगठन के सदस्य हैं, उन्हें इस योजना के तहत कुछ नहीं दिया जाएगा.

राष्ट्रपति करज़ई का कहना था कि जो लड़ाके अफ़ग़ानिस्तान के संविधान को स्वीकार करते हैं और विचारधार के आधार पर सरकार का विरोध नहीं करते, वे मुख्यधारा में लौट सकते हैं.

तालेबान संगठन अपने लड़ाकों को अफ़ग़ानिस्तान की सरकार की सेना के सदस्यों से ज़्यादा पैसा देता है और इनमें से कई आम किसान हैं.

करज़ई का कहना था, "हाँ, ताकत के हिसाब से मेरी सरकार कमज़ोर है. इसका मतलब पैसा, संयंत्र, मानवशक्ति और क्षमता है....दुर्भाग्य से हमारे पश्चिमी सहयोगियों ने हमारे चुनाव को बहुत ग़लत तरीके से देखा है.."

उन्होंने बताया कि 28 जनवरी से लंदन में अफ़ग़ानिस्तान के मुद्दे पर होने वाले सम्मेलन में ब्रिटेन और अमरीका उनकी योजना का समर्थन करेंगे.

करज़ई के मुताबिक जापान इस योजना के तहत पैसा देने को तैयार है.

संबंधित समाचार