मीडिया संगठनों ने ईरान की आलोचना की

बीबीसी पर्शियन
Image caption बीबीसी के पर्शियन न्यूज़ चैनेल के प्रसारण को भी बाधित किया गया.

बीबीसी समेत दुनिया के तीन बड़े मीडिया संगठनों ने प्रसारण में रुकावट डालने के लिए ईरान की निंदा की है.

बीबीसी, डॉयचे वेले और वॉयस ऑफ़ अमेरिका का कहना है कि गुरुवार से प्रसारण में बाधा डालने की शुरुआत हुई.

ईरान इस्लामी क्रांति की 31 वीं वर्षगाँठ मना रहा है, लेकिन इसी मौके पर विपक्ष भी सरकार के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरा है.

तीनों मीडिया संगठनों ने कहा है कि ईरान पूरी दुनिया में प्रसारण के लिए स्वतंत्र है जबकि वह ख़ुद अपने ही लोगों को बाहर के कार्यक्रम सुनने या देखने से रोक रहा है.

इससे पहले अमरीका ने ईरान पर लगभग पूरी तरह सूचना तंत्र पर रोक लगाने का आरोप लगाया था.

अपने ही लोगों से डर

अमरीकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि टेलीफ़ोन नेटवर्क फ़ेल हो रहा है, एसएमएस रोके जा रहे हैं और इंटरनेट पर अंकुश लगाया जा रहा है.

प्रवक्ता का कहना था, "ये स्पष्ट है कि ईरान की सरकार अपने ही लोगों से डर रही है."

बीबीसी, डॉयचे वेले और वॉयस ऑफ़ अमेरिका ने साझा बयान में कहा है कि ईरान सरकार ने हॉटबर्ड उपग्रह से संचार प्रणाली को जाम कर दिया जिसके ज़रिए यूरोप और मध्य-पूर्व में प्रसारण होता है.

तीनों मीडिया संगठनों ने साझा बयान में कहा है, "हम इनमें से किसी भी चैनल को जाम करने की निंदा करते हैं. ये अंतरराष्ट्रीय समझौतों के प्रतिकूल है."

बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के निदेशक पीटर हौरौक्स के साथ डॉयचे वेले के एरिक बैटरमैन और वॉयस ऑफ अमेरिका के डैन ऑस्टिन ने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा है, "हम समाचार और समसामयिक विषयों की समीक्षा का सही और निष्पक्ष प्रसारण बंद नहीं करेंगे. हम हर संभव कोशिश करके ईरान में अपने बेशुमार दर्शकों तक वही टेलिविज़न समाचार पहुंचाएंगे, जो वे चाहते हैं."

तीनों मीडिया संगठनों ने ईरान के उपग्रह ऑपरेटरों से भी अपील करते हुए कहा, “हम उपग्रह संचार प्रणाली के ऑपरेटरों और विनियामकों से अपील करते हैं कि वे ईरान पर ये गतिविधियां बंद करने के लिए दबाव डालें. ईरान सरकार उसी उपग्रह सेवा के ज़रिए दुनिया भर में प्रसारण कर रही है, यहाँ तक कि अंग्रेज़ी और अरबी में भी, और उसी अपग्रह सेवा के ज़रिए दुनिया भर से आने वाले और प्रसारणों से अपने ही लोगों को वंचित रख रही है.”

ईरान के इस क़दम से बीबीसी पर्शियन टेलीविज़न, वॉयस ऑफ़ अमेरिका का टेलीविज़न चैनल और रेडियो फ़ारदा, डॉयचे वेले टेलीविज़न और इसकी रेडियो सेवा के प्रसारण तो बाधित हुए ही साथ ही अंग्रेज़ी के न्यूज़ चैनल बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ के प्रसारण भी बाधित हुए हैं..

संबंधित समाचार