तालेबान का नंबर-दो गिरफ़्तार

Image caption अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के ख़िलाफ़ अभियान चल रहा है

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि तालेबान के मुख्य सैन्य कमांडर मुल्ला अब्दुल ग़नी बिरादर को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

उन्हें तालेबान का नंबर दो नेता माना जाता है.

न्यूयॉर्क टाइम्स अख़बार के मुताबिक़ कराची में कुछ दिन पहले अमरीका और पाकिस्तान ने मिलकर गोपनीय ढंग से छापे मारे थे और उसी दौरान मुल्ला अब्दुल ग़नी बिरादर को गिरफ़्तार किया गया.

रिपोर्ट के मुताबिक़ छापे आईएसआई और सीईए ने मिलकर मारे. वरिष्ठ अधिकारियों ने इस ख़बर की पुष्टि की है.

सरकारी सूत्रों का हवाला देते हुए न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा है कि 2001 के बाद से गिरफ़्तार किए गए तालेबान नेताओं में से अब्दुल ग़नी बिरादर सबसे अहम हस्ती हैं.

ये गिरफ़्तारी ऐसे समय हुई है जब अफ़ग़ान और नैटो सैनिक दक्षिण अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के ख़िलाफ़ बड़ा अभियान चलाए हुए हैं.

लेकिन तालेबान के एक प्रवक्ता ने गिरफ़्तारी की ख़बर का खंडन किया है और कहा है कि अब्दुल ग़नी बिरादर अब भी अफ़ग़ानिस्तान में हैं और गुट की सैन्य और राजनीतिक गतिविधियों का संचालन कर रहे हैं.

तालेबान के ज़बीहुल्लाह मुजाहिद ने रॉयटर्स को बताया, “अब्दुल ग़नी बिरादर को पकड़ा नहीं गया है. ये अफ़वाह उड़ाई जा रही है क्योंकि वे लोग मारजाह में मिली हार से लोगों का ध्यान बंटाना चाहते हैं.”

'अहम गिरफ़्तारी'

वैसे अब्दुल ग़नी बिरादर के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है लेकिन कहा जाता है कि मुल्लाह मोहम्मद उमर के बाद तालेबान में उनका दूसरा नंबर है. 2001 के बाद से मुल्लाह उमर के बारे में कुछ अता-पता नहीं है.

ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारियों को उम्मीद है कि अब्दुल ग़नी बिरादर मुल्ला उमर के बारे में कुछ बताएँगे.

माना जाता है कि अफ़ग़ानिस्तान में सड़कों पर आईईडी लगाने की रणनीति के पीछे अब्दुल ग़नी बिरादर का दिमाग़ है.

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक कराची में छापे मारने के जानकारी उसे गुरुवार को मिल गई थी लेकिन व्हाइट हाउस के अनुरोध के बाद इस ख़बर को देर से छापा गया.

इंटरपोल के अनुसार अब्दुल ग़नी बिरादर का जन्म 1968 में हुआ था और तालेबान के शासन के दौरान वे रक्षा उपमंत्री थे.

ये भी बताया जाता है कि जुलाई 2009 में न्यूज़वीक पत्रिका को ईमेल के ज़रिए उन्होंने कहा था कि अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सेना को ज़्यादा से ज़्यादा नुक़सान पहुँचाया जाएगा.

संबंधित समाचार