भारत-पाक वार्ता 25 को ही

पुणे की जर्मन बेकरी जहाँ विस्फोट हुआ
Image caption पुणे के इस विस्फोट की जाँच चल रही है

भारत सरकार ने निर्णय लिया है कि पुणे में हुए बम विस्फोट के बावजूद पाकिस्तान से विदेश सचिव स्तर की वार्ता पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुरुप 25 फ़रवरी को ही होगी.

समाचार एजेंसियों ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति में सोमवार को हुई चर्चा के बाद यह निर्णय लिया गया है.

इससे पहले विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने रविवार को इस वार्ता के भविष्य पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया था और माना जा रहा था कि हो सकता है कि यह वार्ता टल जाए.

शनिवार को पुणे में हुए विस्फोट में कम से कम नौ लोग मारे गए थे और 50 अन्य घायल हो गए थे.

मुंबई में वर्ष 2008 में हुए चरमपंथी हमलों के बाद से पाकिस्तान के साथ वार्ता स्थगित है और गत शुक्रवार को ही पाकिस्तान ने घोषणा की थी कि विदेश सचिव स्तर की वार्ता 25 फ़रवरी को दिल्ली में होगी.

फ़ैसला

Image caption मुंबई हमलों के बाद से दोनों देशों के बीच कोई वार्ता नहीं हुई है

सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल की समिति की बैठक सोमवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में हुई थी.

इस बैठक में गृहमंत्री पी चिदंबरम, विदेशमंत्री एसएम कृष्णा, वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी और रक्षामंत्री एके एंटनी मौजूद थे.

इनके अलावा इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, विदेश सचिव निरुपमा राव और गृह सचिव जीके पिल्लई भी मौजूद थे.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि एक घंटे चली इस बैठक में वार्ता पर क़ायम रहने के फ़ायदे और नुक़सान पर चर्चा हुई.

इसके बाद फ़ैसला किया गया कि पुणे में हुए विस्फोट का सचिव स्तर की वार्ता पर कोई असर नहीं पड़ना चाहिए.

गृहमंत्री पी चिदंबरम ने बैठक में सभी सदस्यों को पुणे में हुए विस्फोट के बाद के जाँच और अन्य घटनाक्रम की जानकारी दी.

संबंधित समाचार