आधारहीन हैं भारत के आरोप: हाफ़िज़ सईद

हाफ़िज़ सईद
Image caption जमात उद दावा के प्रमुख हाफ़िज़ सईद की भारत और अमरीका दोनों को तलाश है.

पाकिस्तान के प्रतिवबंधित संगठन जमात उद दावा के प्रमुख हाफ़िज़ मोहम्मद सईद ने कहा है कि भारत में हमले कराने के आरोप आधारहीन हैं.

भारत मुंबई में 26 नवंबर, 2008 को हुए चरमपंथी हमले के पीछे हाफ़िज़ सईद का हाथ बताता है.

टीवी चैनल अल ज़जीरा को पाकिस्तान के शहर लाहौर में दिए एक ख़ास इंटरव्यू में हाफ़िज़ सईद ने कहा, ''भारत हमेशा मेरे ख़िलाफ़ प्रोपेगंडा करता रहता है और मेरे बारे में झूठी ख़बरें फैलाता रहता है. इससे भारत हमारे ख़िलाफ़ अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाने में सफल रहता है.''

आरोपों से इनकार

जानकारों का मानना है कि हाफ़िज़ सईद के संगठन जमात उद दावा का लश्करे तैबा के साथ संबंध काफ़ी मज़बूत हैं.

भारत का मानना है कि मुंबई में हुए सुनियोजित चरमपंथी हमले के पीछे लश्करे तैबा का ही हाथ हैं.

पाकिस्तान में एक प्रमुख राजनेता की हैसियत रखने वाले हाफ़िज़ मोहम्मद सईद को भारत और अमरीका दोनों को तलाश है.

अलज़जीरा से हाफ़िज़ सईद ने कहा, ''पंजाब हाईकोर्ट ने हमें दोषमुक्त करते हुए कहा कि मुंबई हमले में न तो मेरा और न ही जमाअत उद दावा को कोई हाथ है.''

पाकिस्तान ने मुंबई हमले के संबंध में कुछ गिरफ़्तारियाँ हुईं लेकिन हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ कोई आपराधिक आरोप नहीं लगाया गया.

कुछ दिनों पहले भारतीय गृहमंत्री पी चिदंबरम ने आरोप लगाया था कि मुंबई हमले के लिए दिए गए प्रशिक्षण का समन्वय ख़ुद हाफ़िज़ सईद ने ही किया था.

साफ़ इनकार

उनका कहना था, ''हाफ़िज़ सईद ने चरमपंथियों का चयन किया और उन्हें नए नाम दिए.''

इन आरोपों के संबंध में हाफ़िज़ सईद ने कहा, ''मैंने उसे (कसाब) को कभी नहीं देखा बल्कि यह बात भी मुझे भारतीय मीडिया से ही पता चली कि वो पाकिस्तान का नागरिक है.''

उन्होंने कहा, ''मैं कसाब से कभी नहीं मिला और न ही मैं उसे जानता हूँ. यह मैंने कई बार कही हैं. यह एक तथ्यहीन दुष्प्रचार है और इसमें रत्तीभर सच्चाई नहीं है.''

संबंधित समाचार