सिखों की हत्या के विरोध में बंद

फ़ाइल फ़ोटो
Image caption भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर में सिखों की हत्या के विरोध में बंद रखा गया है

भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर में सिख संगठनों ने मंगलवार को दो सिखों की पाकिस्तान में हत्या के विरोध में बंद का आह्लान किया है.

सिखों के सभी संगठनों ने जम्मू कश्मीर सिख यूनाइटेड फ्रंट के तहत सिख समुदाय के ख़िलाफ़ हिंसा के विरोध में ये हड़ताल बुलाई है.

उनकी मांग है कि भारत सरकार इसे गंभीरता से ले और पाकिस्तान के समक्ष ये मु्द्दा उठाए.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान में चरपंथियों ने दो सिखों की गला काटकर हत्या कर दी थी.

सिखों की लाश पेशावर के औरकज़ई और ख़ैबर एजेंसी में बरामद हुई है.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार क़रीब एक महीने पहले औरकज़ई और ख़ैबर एजेंसी से सात सिखों को अगवा करने की कोशिश हुई थी.

इनमें से चार सिख भागने में सफल हो गए लेकिन तीन सिखों को हथियारबंद चरमपंथी उठा कर ले गए थे.

इनमें से दो सिखों की लाश रविवार को बरामद हुई है. पेशावर में अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है.

स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक़ इन सिखों से शवों को उनके रिश्तेदारों को सौंप दिया गया है.

बीबीसी संवाददाता ने स्थानीय सूत्रों के हवाले से बताया है कि चरमपंथियों ने इन सिखों की रिहाई के बदले बड़ी रकम मांगी थी.

लेकिन फिर क्या हुआ, इसके बारे में कोई पुख़्ता जानकारी नहीं मिल पाई है.

संबंधित समाचार