दो चरमपंथी गुटों की लड़ाई में 60 मरे

तालेबान
Image caption तालेबान के 20 सदस्य मारे गए हैं

उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान और प्रतिद्वंद्वी इस्लामी चरमपंथी संगठन हिज़्ब-ए-इस्लामी के बीच झड़प में कम से कम 60 चरमपंथी मारे गए हैं.

पुलिस के मुताबिक़ बग़लान प्रांत में ये झड़प शनिवार की सुबह शुरू हुई, जिसमें चरमपंथियों के अलावा अनेक आम नागरिक भी मारे गए हैं.

बीबीसी के एक संवाददाता का कहना है कि ऐसा प्रतीत होता है कि एक स्थानीय गांव और उससे मिलने वाले पैसे पर नियंत्रण को लेकर दोनों गुटों के बीच लड़ाई थी.

गुलबदीन का वफ़ादार

हिज़्ब-ए-इस्लामी अफ़ग़ानिस्तान का दूसरा सबसे बड़ा चरमपंथी संगठन है जो पूर्व मुजाहिदीन कमांडर और पूर्व प्रधानमंत्री गुलबदीन हिकमतयार के प्रति वफ़ादार है.

अब तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि किस मामले को लेकर दोनों गुटों में झड़प शुरू हुई. ये दोनों संगठन अफ़ग़ानिस्तान में विदेशी फ़ौज की मौजूदगी का विरोध करते आए हैं.

बग़लान के पुलिस प्रमुख जनरल अकबर ने बीबीसी को बताया कि झड़प में हिज़्ह-ए-इस्लामी के 40 सदस्य जबकि तालेबान के 20 सदस्य मारे गए हैं.

जनरल अकबर का कहना है कि ऐसा माना जा रहा है कि तालेबान ने हिज़्ब-ए-इस्लामी के 50 सदस्यों को पकड़ भी लिया है.

काबुल स्थित बीबीसी संवाददाता क्रिस मौरिस का कहना है कि ये झड़पें उन इलाक़ों में हो रही हैं, जहाँ अफ़ग़ानिस्तान सरकार का असर बहुत कम है.

संबंधित समाचार