फ़ोनसेका ने दी कोर्ट में हाज़िरी

फ़ोनसेका
Image caption फ़ोनसेका ने राष्ट्रपति चुनाव में राजपक्षे को टक्कर दी थी

श्रीलंका के पूर्व सेनाध्यक्ष सरथ फ़ोनसेका के ख़िलाफ़ कोर्ट मार्शल शुरू हो गया है.वे मंगलवार को सैन्य अदालत के सामने पेश हुए. इस मुकदमे में नागरिकों या मीडिया में आने की अनुमति नहीं है.

सुनवाई छह अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी गई है- संसदीय चुनाव से दो दिन पहले. लेकिन एक अन्य आरोप के सिलसिले में फ़ोनसेका गुरुवार को अदालत में पेश होंगे.

राष्ट्रपति चुनाव में वे महिंदा राजपक्षे के ख़िलाफ़ खड़े हुए थे लेकिन हार गए थे.

फ़ोनसेका पर पद पर रहते राजनीति में शामिल होने और सैन्य ख़रीद प्रक्रियाओं के उल्लंघन का आरोप है.

लेकिन फ़ोनसेका का कहना है कि ये आरोप राजनीति से प्रेरित हैं और उन्हें अप्रैल में होने वाले संसदीय चुनाव में हिस्सा लेने से रोकने की कोशिश हैं.

पिछले महीने जनरल फ़ोनसेका को सेना ने गिरफ़्तार किया था. जनवरी में वे महिंदा राजपक्षे से राष्ट्रपति चुनाव हार गए थे.

फ़ोनसेका की गिरफ़्तारी और उनका कोर्ट मार्शल करने के ख़िलाफ़ राजधानी कोलंबो में प्रदर्शन हुए हैं.

श्रेय की लड़ाई

एलटीटीई के ख़िलाफ़ निर्णायक लड़ाई के समय जनरल फ़ोनसेका सेना प्रमुख थे. पिछले साल श्रीलंका की सेना ने 25 साल से चल रहे संघर्ष में एलटीटीई को हरा दिया था.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि एलटीटीई के ख़िलाफ़ जीत का श्रेय लेने को लेकर फ़ोनसेका और महिंदा राजपक्षे में ठन गई. दोनों ने युद्ध में अपनी भूमिका को लेकर ही राष्ट्रपति चुनाव भी लड़ा.

अधिकारी फ़ोनसेका पर ये भी आरोप लगाते हैं कि उन्होंने सरकार के ख़िलाफ़ विद्रोह और राष्ट्रपति राजपक्षे की हत्या की साज़िश भी रची.

हालाँकि फ़ोनसेका इन आरोपों से इनकार करते हैं. वैसे कोर्ट मार्शल में फ़ोनसेका के ख़िलाफ़ ये आरोप नहीं लगाए जाएँगे.

श्रीलंका के पूर्व मुख्य न्यायाधीश सरथ सिल्वा ने कहा है कि जनरल फ़ोनसेका का कोर्ट मार्शल असंवैधानिक है क्योंकि उनके विचार में फ़ोनसेका का मामला सैन्य अदालत के दायरे में नहीं आता.

उन्होंने कहा कि फ़ोनसेका के ख़िलाफ़ नागरिक अदालत में मुक़दमा चलना चाहिए.

आरोप

जनरल फ़ोनसेका की बेटी अप्सरा ने आरोप लगाया है कि सरकार उनके पिता पर इसलिए मुक़दमा चला रही है, क्योंकि वह उन्हें संसदीय चुनाव में खड़े होने से रोकना चाहती है.

Image caption महिंदा राजपक्षे और फ़ोनसेका के बीच अच्छे संबंध नहीं रह गए थे

फ़ोनसेका का कोर्ट मार्शल कोलंबो में नौसेना के मुख्यालय में होगा. फ़ोनसेका यहीं हिरासत में रखे गए हैं.

कोलंबो से बीबीसी संवाददाता चार्ल्स हैविलैंड का कहना है कि फ़ोनसेका का कोर्ट मार्शल गुप्त होगा और इस प्रक्रिया के दौरान पैनल में वो अधिकारी शामिल होंगे, जो उनसे रैंक में काफ़ी कम हैं.

श्रीलंका की सेना के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि कोर्ट मार्शल के दौरान फ़ोनसेका अपना वकील रख सकते हैं और फ़ैसले के ख़िलाफ़ उच्च नागरिक अदालत में अपील कर सकते हैं.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़ फ़ोनसेका की पार्टी डेमोक्रेटिक नेशनल अलायंस का कहना है कि फ़ोनसेका कोर्ट मार्शल प्रक्रिया में सहयोग नहीं करेंगे.

संबंधित समाचार