कृष्णा 15 जुलाई को इस्लामाबाद जाएँगे

एसएम कृष्णा और शाह महमूद क़ुरैशी
Image caption दोनों मंत्री पहले इस्लामाबाद में मिलेंगे और फिर दिल्ली में

पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी और भारतीय विदेशमंत्री एसएम कृष्णा के बीच टेलीफ़ोन पर हुई चर्चा के बाद सहमति बनी है कि दोनों नेता 15 जुलाई को इस्लामाबाद में मिलेंगे.

इस बैठक में भारत और पाकिस्तान के बीच विश्वास बहाली के उपायों पर चर्चा होगी.

जैसा कि शाह महमूद क़ुरैशी ने इस्लामाबाद में एक पत्रवार्ता में बताया, इस बैठक में दोनों देशों के बीच सभी मसलों पर चर्चा होगी. बाद में भारतीय विदेश मंत्री कृष्णा ने भी दिल्ली में इसकी पुष्टि की है.

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों सार्क सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी के बीच चर्चा में दोनों देशों के बीच शांतिवार्ता को लेकर चला आ रहा गतिरोध समाप्त हुआ था.

दोनों नेताओं ने तय किया था कि वे फिर से वार्ता शुरु करेंगे और इसकी शुरुआत विदेश मंत्रियों के बीच मुलाक़ात से होगी.

नवंबर, 2008 में मुंबई पर हुए चरमपंथी हमलों के बाद से भारत ने शांतिवार्ता को स्थगित कर रखा था.

वार्ता

इस बीच भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों की बैठक तो हुई है लेकिन उसमें कोई अहम फ़ैसला न होना था न हुआ.

लेकिन अब दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने मिलने का फ़ैसला किया है.

Image caption सार्क बैठक के दौरान हुई मुलाक़ात में दोनों देशों के बीच वार्ता का रास्ता फिर से बनता दिखाई पड़ा था

लेकिन इससे पहले सार्क देशों के गृहमंत्रियों की 26 जून को इस्लामाबाद में होने वाली बैठक के दौरान दोनों देशों के गृहमंत्रियों पी चिदंबरम और रहमान मलिक की अलग से मुलाक़ात होगी.

क़ुरैशी ने बताया कि इस बैठक में भारत की विदेश सचिव भी आएंगीं. वे पाकिस्तान के विदेश सचिव से अलग से मुलाक़ात करेंगी. इस मुलाक़ात में 15 जुलाई को भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की होने वाली बातचीत के लिए तैयारी की जाएगी.

पाकिस्तानी विदेश मंत्री के अनुसार भारतीय विदेश मंत्री ने उन्हें दिल्ली आने का निमंत्रण दिया है और वे 15 जुलाई को इस्लामाबाद में होने वाली बैठक के बाद दिल्ली जाएँगे. हालांकि उन्होंने इसकी कोई तारीख़ नहीं बताई है.

पत्रवार्ता में क़ुरैशी ने बताया कि इस वार्ता से पहेल वे कई क़दम उठाने जा रहे हैं और दोनों देशों के बीच के कई संवेदनशील मुद्दों पर राष्ट्रीय सहमति तैयार करने का प्रयास भी करेंगे.

उन्होंने मीडिया को बताया कि इससे पहले सोमवार को उन्होंने देश के पूर्व विदेश मंत्रियों, पूर्व विदेश सचिवों और भारत में पदस्थ रह चुके पाकिस्तानी उच्चायुक्तों से मुलाक़ात की थी.

कुरैशी का कहना था कि उन्हें इस बैठक में कई महत्वपूर्ण सुझाव मिले हैं.

उनका कहना था कि उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा से ज़डी एजेंसियों के अधिकारियों से भी मुलाक़ात की है और वे जल्दी ही संसद में विदेशी मामलों की समिति के सदस्यों से मुलाक़ात करने वाले हैं और भारत से बातचीत के संबंध में उनकी भी राय लेंगे.

संबंधित समाचार