मुल्ला फ़ज़लुल्लाह की मौत की ख़बरों की जाँच

मु्ल्ला फ़ज़लुल्लाह
Image caption मुल्ला फ़ज़लुल्लाह को पकड़ने के लिए इनाम तय किया गया था

अफ़ग़ान पुलिस अधिकारियों का कहना है कि वे इन रिपोर्टों की सच्चाई की जाँच कर रहे हैं कि पाकिस्तानी तालेबान के नेता मुल्ला फ़ज़लुल्लाह को मार दिया गया है.

पाकिस्तान के मीडिया में इस तरह की ख़बरें आ रही हैं कि मुल्ला फ़ज़ुल्लाह को उनके छह साथियों के साथ नूरिस्तान प्रांत में मार दिया है.

लेकिन उनके उपनेता ने बीबीसी को बताया कि मुल्ला फ़ज़लुल्लाह वहाँ लड़ाई में शामिल ही नहीं थे और वह जीवित हैं.

उधर पाकिस्तानी सेना का कहना है कि उनके पास इस बात के सचित्र सबूत मौजूद हैं कि फ़ज़लुल्लाह मारे जा चुके हैं.

तालेबान प्रमुख मौलाना फ़ज़लुल्लाह पर छह लाख डॉलर का इनाम था.

अफ़ग़ानिस्तान की समाचार एजेंसियों ने अफ़ग़ान पुलिस मोहम्मद ज़मान ममोज़ाई के हवाले से कहा है इस बात के संकेत हैं कि स्वात घाटी में सक्रिय तालेबान नेता मौलवी फ़ज़लुल्लाह को पाक-अफ़ग़ान सीमा के क़रीब मार दिया गया है.

बताया जाता है कि मौलाना फ़ज़लुल्लाह के तार इस्लामाबाद की लाल मस्जिद से जुड़े थे. लाल मस्जिद के प्रबंधक, कट्टरपंथी मौलवी अब्दुल रशीद ग़ाज़ी को पाकिस्तानी सेना ने घेरकर मस्जिद में ही मार डाला था.

लेकिन मौलाना फ़ज़लुल्लाह सैनिक कार्रवाई की भनक लगते ही पहाड़ों की तरफ़ निकल गए थे जहाँ से वो अपने समर्थकों के साथ मिलकर सेना से लड़ रहे थे.

मौलाना फ़ज़लुल्लाह कट्टरपंथी होने के साथ-साथ नई टेक्नॉलोजी की भी अच्छी जानकारी रखते थे.

उनका मुल्ला एफ़एम रेडियो चैनेल स्वात घाटी के कई इलाक़ों में सुनाई देता है.

संबंधित समाचार