नैटो अड्डे पर तालिबान का हमला विफल

जलालाबाद में नैटो सैनिक (फ़ाइल फ़ोटो

नैटो अड्डे पर हमले की ज़िम्मेदारी अफ़ग़ान तालिबान ने ली है

पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान के जलालाबाद हवाई अड्डे पर चरमपंथियों के एक भीषण हमले को नैटो सैनिकों ने विफल कर दिया है. अफ़ग़ान तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

सैनिकों की जवाबी गोलीबारी में कई चरमपंथी मारे गए हैं. अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा बल के अनुसार चरमपंथियों ने जलालाबाद शहर के बाहर स्थित अड्डे पर कई दिशाओं से धावा बोला.

हमलावर बंदूकों और रॉकेट द्वारा चलाए जाने वाले ग्रेनेडों से लैस थे. उन्होंने एक कार बम धमाका भी किया.

ये हमला अफ़ग़ानिस्तान के लिए अमरीकी सेना के प्रमुख बनाए गए जनरल डेविड पेट्रेयस के बयान के ठीक बाद हुआ है.

अपने बयान में जनरल पेट्रेयस ने अमरीकी कांग्रेस के सामने कहा था कि आने वाले दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा में तेज़ी आएगी और फिर स्थिति सामान्य की ओर बढ़ सकती है.

तालिबान का हमला

बुधवार का ये हमला स्थानीय समयानुसार सुबह साढ़े सात बजे हुआ.

जलालाबाद में नैटो हेलिकॉप्टर

बीबीसी संवाददाता के अनुसार ये बढ़ती तालिबान ताकत का एक और उदाहरण है

काबुल से बीबीसी संवाददाता क्वेंटिन सोमरविल ने बताया है कि चरमपंथियों ने चारों दिशाओं से हमला बोला. हमले में कार बम चलाया गया, रॉकेट से ग्रेनेड दाग़े गए और भीषण गोलीबारी हुई लेकिन चरमपंथी एयरपोर्ट की सीमा को नहीं लांघ पाए.

घटनास्थल के पास ही कुनार इलाक़े में अफ़ग़ान सेना के नेतृत्व में एक अभियान चल रहा है. इसमें 600 सैनिक 250 चरमपंथियों के ख़िलाफ़ अभियान चला रहे हैं. माना जा रहा है कि इन चरमपंथियों के संबंध अल क़ायदा से हैं.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि एयरपोर्ट पर हुआ यह हमला चरमपंथियों की बढ़ती ताक़त और योजनाबद्ध तरीक़े से किए जा रहे हमलों का एक और उदाहरण है.

कमांडो स्टाइल में किए जा रहे इन हमलों की संख्या बढ़ रही है और इनसे ज़्यादा तादाद में आम नागरिक और फ़ौजी हताहत हो रहे हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.