हमारा पलड़ा भारी है: तालिबान

जून का महीना नेटो गठबंधन के लिए बेहद ख़राब रहा है क्योंकि उनके 102 लोग मारे गए हैं.

अफ़गान तालिबान ने बीबीसी से कहा है कि नेटो गठबंधन के साथ किसी भी तरह की बातचीत का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि तालिबान जंग जीत रहा है.

ये बयान अमरीकी सैन्य कमांडरों और ब्रितानी सेना प्रमुख जनरल डेविड रिचर्डस के उस सुझाव के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा है कि तालिबान के साथ बातचीत फ़ायदेमंद हो सकती है.

तालिबान का बयान न केवल किसी समझौते के ख़िलाफ़ है बल्कि हिकारत से भरा है.

उनका मानना है कि वो इस युद्ध को जीत रहे हैं और इसलिए कोई वजह नहीं देखते नेटो के साथ बात करने की.

उनका मानना है कि अमरीकी ख़ेमे में अफ़रातफ़री का माहौल है ख़ासकर नेटो कमांडर जनरन स्टेनली मैक्रिस्टल की बर्ख़ास्तगी के बाद.

वो बातचीत के किसी भी प्रस्ताव को नेटो की कमज़ोरी की तरह देख रहे हैं.

उनका कहना है कि जून अफ़गानिस्तान में नेटो के लिए सबसे ख़राब महीना रहा है क्योंकि उनके 102 लोग मारे गए हैं यानि हर दिन तीन लोग मारे गए हैं.

हमें विश्वास है कि हम जीत रहे हैं. हम क्यों बात करें जब हमारा पलड़ा भारी है, विदेशी फ़ौज वापस लौटने की सोच रही है और उनमें आपस में भी मतभेद है?

तालिबान प्रवक्ता

तालिबान के एक प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने एक मध्यस्थ के ज़रिए बीबीसी से बात की और कहा कि तालिबान का हौसला इस बात से और बढ़ा है कि अमरीका और उसके सहयोगी फ़ौज की वापसी की बात कर रहे हैं.

इन दिनों अफ़गानिस्तान और पाकिस्तान दोनों में ही पश्चिमी देशों के नागरिकों के लिए तालिबान नेताओं से आमने सामने मिलना बेहद मुश्किल है.

लेकिन एक विश्वस्त मध्यस्थ ने हमारे सवालों को ज़बीउल्लाह मुजाहिद को पहुंचाया और उनका जवाब हमें सौंपा.

उसमें लिखा हुआ था: "हम किसी से बात नहीं करना चाहते, न तो करज़ई से, न ही किसी विदेशी से जब तक कि विदेशी शक्तियां अफ़गानिस्तान नहीं छोड़तीं."

उसमें लिखा हुआ है: "हमें विश्वास है कि हम जीत रहे हैं. हम क्यों बात करें जब हमारा पलड़ा भारी है, विदेशी फ़ौज वापस लौटने की सोच रही है और उनमें आपस में भी मतभेद है?"

ये संभव है कि तालिबान ये बयान भ्रम फैलाने के लिए भी दे रहे हों लेकिन कई अफ़गान ये सोचते हैं विदेशी गठबंधन की हालत पस्त है और वो युद्ध हार रहे हैं.

नेटो गठबंधन की कमान संभालनेवाले जनरल पेट्रेयस के सामने इस सोच को बदलना एक बड़ी चुनौती होगी.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.