एवरेस्ट पर 19 बार चढ़ने वाले शेरपा लापता

छेवांग नीमा 19 बार एवरेस्ट पर चढ़ चुके हैं

हिमालय की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर 19 बार चढ़ने वाले नेपाली शेरपा छेवांग नीमा चढ़ाई के दौरान बर्फ खिसकने के बाद लापता हो गए हैं.

उनके अभियान की देखरेख कर रही एजेंसी का कहना है कि जब वो 7,045 मीटर की ऊंचाई पर रस्सियाँ बाँध रहे थे, उस दौरान वो हिमस्खलन यानी बर्फ खिसकने के शिकार हो गए.

नीमा एक दल को 7,129 मीटर की ऊंचाई पर चढ़ने में मदद कर रहे थे.

यदि तेज़ हवाएँ धीमी पड़ गईं तो सोमवार को हेलीकॉप्टर को उनकी तलाश में लगाया जाएगा.

शनिवार को इस दुर्घटना के बाद अन्य शेरपाओं ने उनकी तलाश की लेकिन छेवांग नीमा का पता नहीं चला.

छेवांग नीमा की क्षमताओं और अनुभव को देखते हुए मुझे लगता है कि वो अब भी जीवित होंगे.

शंग्रीला ट्रेक्स ऐंड एक्सपीडिशन के जिबन घिमरे

एक हेलीकॉप्टर को भी इस पर्वतारोही दल के आधार शिविर पर भेजा गया लेकिन रविवार को तेज़ हवाओं के कारण वो उड़ान नहीं भर सका.

इस पर्वतारोही अभियान की देखरेख करने वाली कंपनी शंग्रीला ट्रेक्स ऐंड एक्सपीडिशन के जिबन घिमरे का कहना है कि नीमा जब अन्य पर्वतारोहियों की मदद के लिए रस्सियाँ बांध रहे थे और उस दौरान वो पर्वत के ढलान पर थे, उसी समय हिमस्खलन हुआ और वो उसकी चपेट में आ गए.

उनका कहना था कि अन्य लोग इस हादसे से बच गए हैं.

जिबन घिमरे का कहना था कि छेवांग नीमा की क्षमताओं और अनुभव को देखते हुए उन्हें लगता है कि वो अब भी जीवित होंगे.

उन्होंने बीबीसी से बातचीत में कहा,'' वो एक अच्छे पर्वतारोही हैं और वो जानते हैं कि जान कैसे बचाई जा सकती है.''

43 वर्षीय छेवांग नीमा अनुभवी पर्वतारोही हैं और उन्होंने हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं पर अनेक बार चढ़ाई की है.

वो अप्पा शेरपा के एवरेस्ट पर 20 बार सफलतापूर्वक चढ़ने के रिकॉर्ड की बराबरी करने वाले थे.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.