श्रीलंका में अब भी दो लाख बाढ़ से विस्थापित

बाढ़ से प्रभावित लोग

श्रीलंका में बाढ़ से हुई भीषण तबाही के बाद जहाँ एक ओर संयुक्त राष्ट्र ने प्रभावित लोगों की मदद के लिए आपातकालीन अपील जारी की है वहीं अनेक लोगों ने अब प्रभावित क्षेत्रों में अपने घरों में वापस आना शुरु कर दिया है.

बीबीसी संवाददाता चार्ल्स हेविलैंड के अनुसार, "बाढ़ से विस्थापित हुए लोगों की आधिकारिक संख्या 3.40 लाख है और अधिकारियों का कहना है कि पिछले 24 साल में उनकी संख्या 2.04 लाख रह गई है. लेकिन जिन लोगों के मारे जाने की पुष्टी हुई है उनकी संख्या 38 हो गई है."

एक हफ़्ते पहले भीषण बारिश से आई बाढ़ के कारण पूर्वी श्रीलंका से लाखों लोग अपने घर छोड़ सुरक्षित स्थानों पर चले गए थे.

सयुक्त राष्ट्र की अपील

पूर्वी शहर बाटिकोलोआ में रविवार को दोबारा बारिश शुरु हो गई है लेकिन इससे पहले बारिश के बंद रहने के कारण पानी का स्तर गिरा है.

कई घरों में आधा मीटर तक पानी भरा हुआ था और वो अब सूखने लगा है. विस्थापित हुए अनेक लोगों ने शरणार्थी शिविरों को छोड़ वापस आना शुरु कर दिया है.

विश्व खाद्यापूर्ति कार्यक्रम की ओर से खाद्य पदार्थों का वितरण हो रहा है और वहाँ मौजूद एक व्यक्ति ने बीबीसी को बताया कि 'घर आना अच्छा लग रहा है.'

बाढ़ से मारे जाने वालों में आधे लोग इस ज़िले के थे और इनमें एक 10 वर्षीय बालक शामिल था. अनेक परिवार अपने परिजनों के मारे जाने के कारण शोक में डूबे हुए हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने आपातकालीन मदद के लिए अपील जारी की है ताकि प्रभावित क्षेत्रों तक स्वच्छ पानी, खाना, मच्छरों से बचाव के लिए जाली और अन्य मदद मिल सके.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि लंबे समय तक मदद की ज़रूरत पड़ेगी क्योंकि तबाह हुए खेतों में फिर से फ़सलें लगाने और नष्ट हुए पशुओं की भरपाई करने का काम करना पड़ेगा.

संबंधित समाचार