'ड्रोन हमले में दो अमरीकी सैनिकों की मौत'

अमरीकी अधिकारियों ने आशंका जताई है कि पिछले हफ़्ते दक्षिणी अफ़ग़ानिस्तान में हुए ड्रोन हमले में ग़लती से दो अमरीकी सैनिक मारे गए हैं.

‘फ़्रेंडली फ़ायर’ की इस कथित घटना की जाँच की जा रही है. हालांकि ऐसी घटनाएँ बहुत कम ही हुई हैं जब मानवरहित विमानों के इस्तेमाल के दौरान अमरीकी सैनिकों की मौत हुई हो.

ये घटना हेलमंद प्रांत में हुई जहाँ अमरीका के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय गठबंधन तालिबान को खदेड़ने में लगा है.

अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान में संदिग्ध चरमपंथियों को निशाना बनाने के लिए अकसर अमरीका ड्रोन हमले करता रहा है.

आलोचकों का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में इस तरह के हमलों में सैकड़ों नागरिक भी मारे जा चुके हैं.

जाँच जारी

ताज़ा घटना में जिन दो अमरीकी सैनिकों की मौत हुई है उनके नाम हैं- जेरेमी स्मिथ (26 साल) और बेंजमिन रास्ट (23 साल).

अमरीकी चैनल एनबीसी के मुताबिक ये दोनों सैनिक एक ऐसी ईकाई का हिस्सा थे जिसे पहले से विद्रोहियों से लड़ रही एक यूनिट की मदद के लिए भेजा गया था. इस यूनिट पर विद्रोहियों ने संगीन कस्बे के पास हमला कर दिया था.

एनबीसी के मुताबिक इस यूनिट के सैनिक ड्रोन का वीडियो फ़ीड देख रहे थे. उन्होंने फ़ीड पर देखा कि इंफ़्रारेड छवियाँ उनकी ओर बढ़ रही हैं और शायद समझ बैठे कि ये उनके साथी सैनिक नहीं बल्कि विद्रोही हैं.

पेंटागन ने अभी इस घटना पर टिप्पणी नहीं की है और कहा है कि मामले की जाँच जारी है.

संबंधित समाचार