कंधार की जेल से 500 तालिबान फ़रार

तालिबान इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इससे पहले भी तालिबान ने जेल तोड़कर अपने साथियों को छुड़वाया है

अफ़ग़ानिस्तान के शहर कंधार की एक जेल से 470 से अधिक तालिबान चरमपंथी भाग निकले हैं.

चरमपंथी विद्रोहियों ने बाहर से जेल तक एक सुरंग खोदी और अपने साथियों को छुड़ाकर निकल भागे.

तालिबान ने कहा है कि उनके सौ से ज़्यादा कमांडर मुक्त करवा लिए गए हैं.

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हमिद करज़ई के एक प्रवक्ता का कहना है कि सुरक्षा की यह खामी 'भयावह' है और ऐसा कभी नहीं होना चाहिए था.

जेल के अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि जो क़ैदी भाग निकले हैं उनमें से कई तालिबान चरमपंथी थे.

जेल के महानिदेशक ग़ुलाम दस्तगीर मयार ने बताया, "जेल के बाहर दक्षिणी हिस्से से जेल तक कई सौ मीटर लंबी एक सुरंग बनाई गई और रविवार की रात इससे 476 राजनीतिक क़ैदी भाग निकले."

कंधार प्रांत के गवर्नर के कार्यालय ने कहा है कि जो लोग भागे थे उनमें से कुछ लोगों को पकड़ लिया गया है हालांकि इसके विवरण नहीं दिए गए हैं.

सौ कमांडर

तालिबान के एक प्रवक्ता ने कहा है कि उन्होंने 320 लंबी (1050 फुट) लंबी सुरंग खोदी और इसमें उन्हें पाँच महीनों का समय लगा.

ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने कहा, "जो जेल से निकले हैं उनमें से क़रीब सौ तालिबान कमांडर हैं और शेष विद्रोह में साथ दे रहे लड़ाके हैं."

जेल से निकल भागे एक तालिबान लड़ाके का कहना है कि उसे 360 मीटर लंबी सुरंग से निकलने के लिए कोई आधे घंटे घुटनों के बल रेंगना पड़ा.

पिछले तीन साल में जेल तोड़कर तालिबान के निकल भागने की यह दूसरी बड़ी घटना है.

इससे पहले जून, 2008 में एक आत्मघाती हमलावर ने कंधार जेल के दरवाज़े पर ख़ुद को उडा़ लिया था जिसके बाद 900 क़ैदी भाग निकलने में सफल हो गए थे.

उनमें से बहुत से संदिग्ध चरमपंथी थे.

इस जेल में क़रीब 1200 क़ैदी होते हैं.

नैटो के नेतृत्व वाली अंतरराष्ट्रीय सेना (आईसैफ़) ने कहा है कि यदि अफ़ग़ान अधिकारी चाहेंगे तो वे इस मामले में सहयोग देने के लिए तैयार हैं.

संबंधित समाचार