पाक से दोस्ती नहीं तोड़ेंगे: चीन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दोस्ती के बड़े-बड़े वायदे, लेकिन कोई बड़ा समझौता नहीं

चीन के प्रधानमंत्री बेन जियाबाओ ने कहा है कि चीन हमेशा पाकिस्तान का बढ़िया दोस्त बना रहेगा.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री युसुफ़ रज़ा गिलानी से बीजिंग में मुलाक़ात के बाद जियाबाओ ने ये बात कही. दोनों नेताओं के बीच विभिन्न मुद्दों पर एक घंटे तक बातचीत हुई.

बातचीत के बाद एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में जियाबाओ ने पाकिस्तान को चीन के समर्थन की बात खुल कर कही. उन्होंने कहा, "अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य में चाहे जो भी बदलाव हो चीन और पाकिस्तान हमेशा अच्छे पड़ोसी, अच्छे दोस्त और अच्छे भागीदार बने रहेंगे."

गिलानी इससे पहले चीन को पाकिस्तान के सबसे भरोसेमंद दोस्त की उपाधि दे चुके हैं.

गिलानी की चीन यात्रा ऐसे समय हो रही है जब ओसामा बिन लादेन की पाकिस्तान की धरती पर अमरीकी बलों के हाथों हुई मौत के बाद पाकिस्तान-अमरीका संबंधों में तनाव बढ़ गया है.

अमरीका को चेतावनी

बीजिंग से बीबीसी के एक संवाददाता के अनुसार गिलानी अपनी चीन यात्रा के मौक़े का उपयोग अमरीका को चेतावनी देने के लिए कर रहे हैं कि बिन लादेन की मौत के बाद वह पाकिस्तान पर ज़्यादा दबाव डालने की कोशिश नहीं करे क्योंकि पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चीन का भी सहारा है.

वैसे यहाँ ये उल्लेखनीय है कि दोस्ताना वायदों की बारिश के बीच गिलानी की यात्रा के दौरान पाकिस्तान और चीन के बीच मात्र तीन सामान्य महत्व के समझौतों पर ही हस्ताक्षर हुए.

ये समझौते आर्थिक और तकनीकी सहयोग, बैंकिंग क्षेत्र में आपदा प्रबंधन और सोने-ताँबे के खनन के क्षेत्र में हुए हैं.

चीन इस बात से ख़ुश लगता है कि उसे अल-क़ायदा और तालेबान के ख़िलाफ़ लड़ाई जैसी पाकिस्तान की घरेलू समस्याओं से किसी भी रूप में जुड़ना नहीं पड़ रहा है. पाकिस्तान को उसके सहयोग का स्तर बहुत सीमित है.

संबंधित समाचार