होटल पर हमले में 21 की मौत

काबुल में होटल पर हमला इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption होटल में विदेशी नागरिक भी ठहरते हैं

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार की रात को हुए एक हमले में कम से कम 21 लोगों की मौत हो गई. इस हमले के लिए तालेबान को ज़िम्मेदार ठहराया गया है.

अफ़ग़ान अधिकारी इंटरकाँटिनेंटल होटल की सघन तलाशी ले रहे हैं ताकि कोई जीवित बचे हमलावर या आम आदमी का पता लगाया जा सके.

ये हमला होटल के मुख्य प्रवेश द्वार पर आत्मघाती हमले के साथ शुरू हुआ था.

उसके क़रीब पाँच घंटे बाद नैटो ने हेलीकॉप्टर के ज़रिए होटल के छत पर मौजूद कथित हमलावरों पर गोलीबारी की. नैटो का कहना है कि छत पर मौजूद लोग गोलियाँ चला रहे थे.

बाद में ऐसी ख़बरें आईं कि एक आत्मघाती हमलावर ने होटल के भीतर विस्फोटकों से ख़ुद को उड़ा दिया. उस घटना में दो पुलिसकर्मी और स्पेन का एक यात्री मारा गया जो वहाँ ठहरा हुआ था.

काबुल के पुलिस प्रमुख जनरल अय्यूब ने बताया है कि स्पेन का ये नागरिक सुरक्षा बलों की चेतावनी के बावजूद अपने कमरे में गया था. उससे कुछ ही देर पहले होटल साफ़ किया गया था.

अधिकारियों ने कहा है कि इस हमले में कम से कम आठ हमलावर मारे गए हैं.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस हमले को सुनियोजित क़रार दिया है.

झाँसे की आशंका

काबुल में मौजूद एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि ये हमला दिखाता है कि अफ़ग़ान सुरक्षा बलों को अब भी नैटो और सहयोगी देशों के सैनिकों की मदद की कितनी ज़रूरत है.

देश के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय के एक प्रवक्ता लतीफ़ुल्लाह मशाल ने स्वीकार किया है कि होटल के लिए पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं थी.

उन्होंने कहा, "हम समझते हैं कि सुरक्षा व्यवस्था में कहीं कोई कमी ज़रूर थी. इसकी जाँच अवश्य की जाएगी. होटल के एक हिस्से में कुछ निर्माण कार्य और मरम्मत भी चल रही थी. चरमपंथी कड़ी सुरक्षा वाले इलाक़ों में भी घुसने के लिए हर संभव तरीक़े अपना रहे हैं."

"हो सकता है कि चरमपंथियों ने मज़दूरों या टैकनीशियन के कपड़े पहनकर होटल में प्रवेश पाने में कामयाबी हासिल की हो."

एक हमलावर मंगलवार रात को हुई लड़ाई के बाद होटल में कही छुपा हुआ था और उसने अपनी कमर से बंधी विस्फोटक बेल्ट में स्थानीय समय के अनुसार सुबह क़रीब सात बजे धमाका कर दिया.

तब तक यही समझा गया था कि सुरक्षा बलों के साथ पाँच घंटे तक चली भीषण लड़ाई में होटल में मौजूद सभी हमलावर मारे जा चुके हैं और कोई हमलावर नहीं बचा था लेकिन सुबह हुए इस विस्फोट से सभी हैरान रह गए.

हताहतों की संख्या के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं मिल रही है.

काबुल पुलिस प्रमुख ने कहा है कि उनका बख़्तरबंद वाहन भी इस गोलीबारी में बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुआ है जिससे पता चलता है कि लड़ाई कितनी भीषण थी.

संबंधित समाचार