भारत-बांग्लादेश: अहम मुद्दे

मनमोहन-हसीना

प्रधानमंत्री मनमोहन सिहं की बांग्लादेश यात्रा के दौरान कई अहम मुद्दों पर दोनों देशों में सहमति बनेगी. हालांकि इनमें से कुछ को लेकर दोनों ओर कुछ आशंकाएं भी रही हैं.

व्यापार संधि: बांग्लादेश 61 क़िस्म की सामग्रियों को कर-मुक्त करने की मांग कर रहा है. इनमें से ज़्यादातर कपड़े के निर्यात से संबंधित हैं.

सीमा रेखांकन और दोनों के क्षेत्र में बसाहटों पर समझौता: भारत और बांग्लादेश के बीच चार हज़ार किलोमीटर लंबी सीमा रेखा है. बांग्लादेश गृह मंत्रालय के अधिकारी कमालुद्दीन अहमद ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा है कि चूंकि दोनों देशों के बीच कोई साफ़ निर्धारित सीमा नहीं है जिसकी वजह से गोलीबारी और मौतें होती हैं. दोनों के बीच बसाहटों को लेकर भी आदान-प्रदान पर चर्चा होगी. कहा जाता है कि ऐसी बसाहटों में पचास हज़ार से ज़्यादा लोग रहते हैं.

प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर: भारत चाहता है कि प्रत्यर्पण के ज़रिए असम के पृथकतावादी नेता अनूप चेतिया जैसे लोगों को वापस लाया जा सके जो 1997 में गिरफ्तार किए जाने के बाद बांग्लादेश में सज़ा काट रहे थे. बांग्लादेश भी चाहता है कि भारत शेख मुजीबुर्रहमान के हत्यारों को ढूंढे. बांग्लादेश का कहना है कि रहमान के दो हत्यारे भारत में छुपे हैं. भारत के विदेश सचिव रंजन मथाई ने कहा है कि चेतिया और रहमान के क़ातिलों के प्रत्यर्पण पर दोनों देशों के बीच बातचीत भारत के गृह मंत्री पी चिदंबरम की यात्रा के दौरान हो चुकी है.

तीसता और फ़ेनी नदियों पर समझौता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के ऐतराज़ के चलते सिक्किम से निकलनेवाली नदी तीस्ता के पानी के बंटवारे पर समझौता टल गया है. दोनों देश फेनी पर भी समझौता चाहते हैं जिसका उदगम-स्थान उत्तर-पूर्वी राज्य त्रिपुरा में है जिसके दोनों किनारे दो अलग-अलग देशों में है. दोनों पानी का बराबर-बराबर बंटवारा चाहते हैं.

सुंदरबन के बाघों का संरक्षण: सुंदरबन के बाघों और जैविक विविधता के संरक्षण की बात दोनों देशों के बीच हुई है.

पूर्वोतर भारतीय राज्यों के लिए बांग्लादेश से होकर रास्ते: भारत अपने पूर्वोत्तर हिस्से से जुड़ने के लिए बांग्लादेश के रास्ते सड़क और रेलवे मार्ग से ट्रांज़िट रूट की मांग करता रहा है. भारत बांग्लादेश क् बंदरगाहों तक भी प्रवेश मार्ग की मांग कर रहा है. मनमोहन सिंह ने कहा कि भारत ने पहले ही नेपाल और भूटान को बांग्लादेश से जोड़ने के लिए सड़क और रेल मार्ग को खोल दिया है.

संबंधित समाचार