अफ़ग़ानिस्तान: आत्मघाती हमले में 46 की मौत

 मंगलवार, 14 अगस्त, 2012 को 20:48 IST तक के समाचार
अफ़ग़ानिस्तान में हमले की फ़ाइल फ़ोटो

सरकारी दावों के बावजूद नहीं रुक रहे हैं आत्मघाती हमले (फ़ाइल फ़ोटो)

अफ़ग़ानिस्तान में सिलसिलेवार हुए आत्मघाती बम हमलों में 46 लोगों की मौत हो गई है जबकि कम से कम 80 लोग घायल हैं.

नीमरोज़ प्रांत की राजधानी ज़रांज़ में हुए हमले में ही कम से कम 36 लोगों की मौत हो गई.

अधिकारियों का कहना है कि अन्य आठ आत्मघाती हमलों को नाकाम कर दिया गया है.

पुलिस अधिकारियों के अनुसार कम से कम चार जगह विस्फोट हुए हैं. बाज़ार वाले इलाक़े में हमले तब हुए जब लोग रोज़ा खोलने की तैयारी कर रहे थे.

स्थानीय गवर्नर अब्दुल करीम ब्राहावी कि दो अन्य आत्मघाती हमलावरों को विस्फोट करने से पहले ही सुरक्षा बलों ने गोली मार दी.

और हो सकते हैं हमले

प्रांतीय पुलिस के उप प्रमुख मुजीबुल्लाह लतीफ़ी के अनुसार मारे गए अधिकतर लोग आम नागरिक थे जिसमें महिलाएं और बच्चे शामिल हैं.

उन्होंने कहा, "बड़ी तादाद में लोग मारे गए हैं और उनमें से ज़्यादातर आम लोग थे."

"मैं अपने बेटे-बेटियों के साथ मीठा ख़रीद रहा था कि उसी समय मैंने ज़ोर की आवाज़ सुनी. मैं तुरंत ज़मीन पर गिर गया. जब मैं उठा तो हर तरफ़ ख़ून ही ख़ून था."

एक चश्मदीद

अफ़ग़ान ख़ुफ़िया अधिकारियों ने बीबीसी को बताया है कि ज़रांज़ में कई आत्मघाती हमलावर पहुँच चुके हैं. उनमें से कुछ सोमवार को और कुछ अन्य मंगलवार को गिरफ़्तार हुए थे.

एक चश्मदीद मोहम्मद ज़लमय ने बीबीसी को बताया, "मैं अपने बेटे-बेटियों के साथ मीठा ख़रीद रहा था कि उसी समय मैंने ज़ोर की आवाज़ सुनी. मैं तुरंत ज़मीन पर गिर गया. जब मैं उठा तो हर तरफ़ ख़ून ही ख़ून था."

राजधानी काबुल से बीबीसी संवाददाता अलीम मक़बूल के अनुसार ईरानी सीमा के निकट स्थित ज़रांज़ वैसे समृद्ध और शांतिपूर्ण शहर रहा है.

इस बीच पुलिस ने आशंका व्यक्त की है कि और भी हमले हो सकते हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.