इमारत है पर गायब हैं कुछ मंज़िलें!

 शनिवार, 25 अगस्त, 2012 को 11:01 IST तक के समाचार
अंकों से जुड़े अंधविश्वास

अंकों से जुड़े अंधविश्वास चीन में ही नहीं दुनिया के लगभग सभी देशों में प्रचलन में हैं.

चीन की राजधानी बीजिंग में अंकों से जुड़े विश्वास और अंधविश्वास ने पुलिस, प्रशासन और आम लोगों को छका दिया है.

चीन का माहौल कुछ ऐसा है कि भले ही आपका घर इमारत की 23वीं मंज़िल पर हो लेकिन आपके घर का पता कुछ और ही होगा. बीजिंग में कई इमारतें ऐसी भी मिल जाएंगी जिनमें दूसरे, तीसरे और पांचवे माले के बीच चौथा माला गायब है.

इस गड़बड़ झाले की वजह सीधी-सादी है चीन में अंकों से जुड़े अंधविश्वास लोगों पर इतने हावी हैं कि लोग खराब समझे जाने वाले अंकों को अपने घर का पता औप रोज़मर्रा ज़िंदगी का हिस्सा नहीं बनाना चाहते.

इसके चलते चीनी पुलिस के पास ऐसी अर्ज़ियों का अंबार लग गया है जिनमें कुछ खास अंकों को बढ़ावा देने और 'अशुभ' अंकों को घर और इमारतों के पते से हटाने की मांग की जाती है.

अंधविश्वास

लेकिन पुलिस को अब इस अंधविश्वास के चलते पैदा हुई गड़बड़ियों और असमंजस की स्थिति से निपटने के लिए सख्त हिदायत दी गई है. स्थानीय प्रशासन का कहना है कि इस तरह की किसी भी अर्ज़ी पर ध्यान नहीं दिया जाएगा. इमारतों और घरों के पते अब सही संख्या के आधार पर होंगे.

'शुभ-अशुभ' को लेकर अंकों से जुड़े अंधविश्वास चीन में ही नहीं दुनिया के लगभग सभी देशों में प्रचलन में हैं. लेकिन चीन के लोग चीनी संस्कृति के अलावा पश्चिमी मान्यताओं को भी मानते नज़र आ रहे हैं.

इसके चलते अंक 4, 8 और 23 ही नहीं बल्कि पश्चिम के आधार पर अंक 13 पर भी अंधविश्वास का घेरा रहता है.

प्रशासन के इस फैसले से कुछ लोग खुश हैं तो कुछ नाखुश भी. हालांकि ज़्यादातर लोगों की रुचि अब यह जानने में है कि आने वाले दिनों में जब प्रॉपर्टी का बाज़ार परवान चढ़ेगा तो मकानों की बोली में किन अंकों के पते वाले मकान अधिक धन कमाएंगे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.