BBC World Service LogoHOMEPAGE | NEWS | SPORT | WORLD SERVICE DOWNLOAD FONT | 
एड्स पीड़ितों की कहानी एड्स पीड़ितों की कहानी पढ़ने के लिए नंबरों पर क्लिक करें
  1   2   3   4   5  
 

 
मेरी सारी प्रतिष्ठा धुल गई...
मैं 1993 में एचआईवी ग्रस्त हुआ. मैं समलिंगी हूँ और मैं पहले सोचता था कि एड्स तो यौनकर्मियों से ही होता है मगर ये मुझे भी हो गया. इस बारे में जब समाज में पता चला तो अब सब मुझसे घृणा करते हैं. उन्हें लगता है कि मेरे साथ रहने से उन्हें भी एड्स हो सकता है. पहले तो समलैंगिक और फिर एड्स ग्रस्त होने की वजह से मुझे दोहरा धब्बा लगा है और इससे मेरी सारी प्रतिष्ठा धुल गई है.
बी शेखर, चेन्नई
 
^^ हिंदी << एड्स से जुड़े मुख्य पन्ने पर चलें