500वें टेस्ट में भारत की जीत के 5 कारण

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारत ने पहले टेस्ट में न्यूज़ीलैंड को 197 रनों के बड़े अंतर से हराया

भारत ने कानपुर में हुए अपने 500वें टेस्ट में न्यूज़ीलैंड को 197 रनों से हरा दिया है. एक समय ऐसा लग रहा था कि न्यूज़ीलैंड की टीम भारत को अच्छी टक्कर देगी.

लेकिन ऐसा हुआ नहीं और भारत ने आख़िरकार जीत हासिल कर ली.

आइए नज़र डालते हैं भारत की जीत के पाँच कारणों पर.

1. आर अश्विन का ऑलराउंड प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अश्विन ने इस टेस्ट मैच में कुल 10 विकेट लिए. पहली पारी में चार और दूसरी पारी में छह

भारत का 500वाँ टेस्ट मैच भारत के लिए यादगार रहा. अश्विन ने इस मैच में गेंद के साथ-साथ बल्ले का भी दम दिखाया. उन्होंने भारत की पहली पारी में 40 रन बनाए. साथ ही इस टेस्ट मैच में कुल 10 विकेट भी लिए. अश्विन ने पहली पारी में चार और दूसरी पारी में छह विकेट लिए. इसी टेस्ट मैच के दौरान अश्विन सबसे तेज़ी से 200 टेस्ट विकेट लेने वाले भारतीय खिलाड़ी भी बने.

2. चेतेश्वर पुजारा और मुरली विजय की साझेदारी

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption दोनों पारियों में पुजारा और मुरली विजय ने अच्छी साझेदारी की

भारत ने पहली पारी में अच्छी शुरुआत की थी. लेकिन पहला विकेट 42 रन पर गिरने के बाद मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा ने दूसरे विकेट के लिए 112 रनों की साझेदारी की. पुजारा ने 62 और मुरली विजय ने 65 रनों की पारी खेली. दूसरी पारी में भी पुजारा और मुरली विजय ने 133 रनों की साझेदारी की थी. विजय ने इस पारी में 76 और पुजारा ने 78 रन बनाए

3. रवींद्र जडेजा का शानदार प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रवींद्र जडेजा ने दोनों पारियों में अच्छी बल्लेबाज़ी की और गेंदबाज़ी भी अच्छी की

ये टेस्ट भी रवींद्र जडेजा के लिए यादगार रहा. पहली पारी में जडेजा ने नाबाद 42 रनों की पारी खेली. दूसरी पारी में एक समय जब ऐसा लग रहा था कि न्यूज़ीलैंड की स्थिति बेहतर हो रही है. जडेजा ने आर अश्विन के साथ मिलकर भारत की मैच में वापसी कराई. पहली पारी में तो जडेजा ने सर्वाधिक पाँच विकेट लिए. दूसरी पारी में जडेजा ने एक बार फिर अपने बल्ले का दम दिखाया और रोहित शर्मा के साथ मिलकर छठे विकेट के लिए 100 रन जोड़े. जडेजा इस पारी में 50 रन बनाकर नाबाद रहे.

4. मोहम्मद समी के वो दो विकेट

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मोहम्मद समी ने सही समय पर दो विकेट लेकर न्यूज़ीलैंड को परेशान कर दिया

वैसे तो इस टेस्ट में मोहम्मद समी को दो ही विकेट मिले. लेकिन दूसरी पारी के उनके ये दोनों विकेट अहम समय पर आए. न्यूज़ीलैंड के पाँच विकेट गिर चुके थे. लेकिन एक के एक दो विकेट लेकर समी ने न्यूज़ीलैंड की पारी की कमर तोड़ दी. समी के दो विकेट काफ़ी महत्वपूर्ण समय पर आए.

5. रोहित शर्मा के 68 रन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption दूसरी पारी में रोहित शर्मा ने अच्छी बल्लेबाज़ी की और भारत को अहम बढ़त दिलाने में मदद की

टेस्ट मैच के लिए जब रोहित शर्मा का चयन हुआ था, तो इसकी काफ़ी आलोचना हुई थी. पहली पारी में रोहित शर्मा 35 रन ही बना पाए. लेकिन ऐसे समय जब भारत को रनों के मामले में अच्छी बढ़त की दरकार थी, रोहित शर्मा ने संभल कर खेला और दूसरी पारी में 68 रन बनाए. उन्होंने रवींद्र जडेजा के साथ छठे विकेट लिए 100 रन जोड़े. जिससे दूसरी पारी में भारत की बढ़त अच्छी हुई और आख़िरकार भारत की जीत हुई.