बीसीसीआई मामला: सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

इमेज कॉपीरइट BBC PTI

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई को लेकर लोढा कमेटी की सिफारिशें लागू करने के मामले में अपना फैसला सोमवार को सुरक्षित रख लिया है.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई ने इन सिफारिशों को लागू करने के लिए कुछ और वक्त मांगा है.

इससे पहले, बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने सोमवार को लोढा कमेटी की सिफारिशों पर सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया.

हलफनामे की अहम बातें.

-हमने लोढा पैनल की सिफारिशों का कभी विरोध नहीं किया.

-अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानी आईसीसी से ये कहने के लिए नहीं कहा था कि ये सिफारिशें सरकारी दखल के समान हैं.

इमेज कॉपीरइट BCCI

-बतौर अध्यक्ष कुछ भी गलत नहीं किया.

-आईसीसी के मौजूदा चेयरमैन और पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर का कहना था कि लोढा कमेटी की सिफारिशें लागू करने से बोर्ड के कामकाज में सरकारी दखलअंदाज़ी बढ़ जाएगी.

-शशांक मनोहर का ये भी मानना था कि सिफारिशें लागू करने से बीसीसीआई को आईसीसी का निलंबन भी झेलना पड़ सकता है.

-सिफारिशों पर राज्य क्रिकेट संघों की राय लेनी होगी. बगैर उनकी रजामंदी के सिफारिशों को लागू नहीं किया जा सकता.

सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल जुलाई में लोढा कमेटी की सिफारिशों पर अपनी मुहर लगाई थी. लेकिन बीसीसीआई 'एक राज्य एक वोट', उम्र और शीर्ष पदाधिकारियों का कार्यकाल तय करने समेत कई सिफारिशों का विरोध कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)