क्रिकेट: पाकिस्तान का रिकॉर्ड भारत से बेहतर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

किसी भी टीम के कामयाब होने का सबूत केवल आंकड़े नहीं हैं. ये आंकड़े टीम के प्रदर्शन के बारे में जानकारी ज़रूर देते हैं.

लेकिन उसे परखने का सीधा पैमाना यह है कि इस टीम की हैसियत क्या है? उसने बड़ी टीमों के ख़िलाफ़ कितना अच्छा प्रदर्शन किया है और अपने घरेलू मैदान से बाहर उसने कितनी अधिक कामयाबी हासिल है.

पाकिस्तान को इस पैमाने पर परखा जाए तो मालूम होगा कि वह टेस्ट क्रिकेट की एक ख़ास टीम है.

पाकिस्तान ने अपने 64 साल के छोटे से इतिहास में न केवल ख़ुद से बड़ी टीमों के ख़िलाफ़ ख़ास जीत हासिल की, बल्कि उनकी बड़ी टीमों को उन्हीं के मैदान पर भी झुकाया है.

पाकिस्तान ने वेस्ट इंडीज के ख़िलाफ़ दुबई में अपना 400 वां टेस्ट खेलते हुए 129 वीं टेस्ट जीत हासिल की है.

इन 129 कामयाबियों की तुलना में पाकिस्तान को 113 टेस्ट मैचों में हार मिली और 158 टेस्ट बिना हार-जीत के ख़त्म हुए हैं.

यह आंकड़ा पाकिस्तान अच्छा प्रदर्शन दिखाते हैं लेकिन इसका सबसे ख़ास पहलू यह है कि पाकिस्तान ने न केवल देश में बल्कि देश के बाहर भी असरदार प्रदर्शन किया है.

पाकिस्तान ने घरेलू मैदान में 151 टेस्ट मैच खेले हैं, जिनमें से 56 जीते, 22 हारे और 73 का नतीजा नहीं निकला.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान से बाहर खेले गए 249 टेस्ट मैचों में पाकिस्तान ने 73 टेस्ट जीते, 91 में उसे हार मिली और 85 टेस्ट ड्रा हुए हैं.

पाकिस्तान ने इंग्लैंड की धरती पर 11 जबकि न्यूज़ीलैंड में दस टेस्ट मैच जीते हैं.

इसके विपरीत ऑस्ट्रेलिया में जीते गए टेस्ट मैचों की तादाद महज़ चार है जबकि दक्षिण अफ्रीका में उसे दो टेस्ट मैचों में जीत हासिल हो सकी है.

न्यूज़ीलैंड में जीते गए टेस्ट मैच दस हैं. वेस्ट इंडीज में यह संख्या पांच है, जबकि श्रीलंका में पाकिस्तान ने आठ, ज़िम्बाब्वे में सात और बांग्लादेश में चार टेस्ट मैच जीते हैं.

पाकिस्तान का यह रिकॉर्ड से कई मायनों में भारत के मुक़ाबले ज्यादा बेहतर है. भारत ने पिछले दिनों अपने 500 टेस्ट मैच पूरे किए हैं. भारत ने पाकिस्तान से 102 टेस्ट अधिक खेले हैं लेकिन इसके बावज़ूद उसने 132 टेस्ट मैच ही जीते हैं, यानी पाकिस्तान से महज़ 3 ज़्यादा.

भारत ने अपने देश में 251 और देश से बाहर भी इतने ही टेस्ट मैच खेल रखे हैं. उसने अपने घरेलू मैदान पर 251 टेस्ट मैचों में 90 जीते, 51 हारे, एक टाई हुआ और 109 टेस्ट मैच ड्रा हुए हैं.

लेकिन भारत का अपने देश से बाहर का रिकॉर्ड ज़्यादा प्रभावशाली नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AP

भारत ने देश से बाहर खेले गए 251 टेस्ट मैचों में महज़ 42 टेस्ट जीते हैं. 106 में उसे हार मिली है और 103 टेस्ट ड्रा हुए हैं.

अगर पाकिस्तान के संयुक्त अरब अमीरात में खेले गए 26 टेस्ट और उनमें हासिल 14 जीत को यह समझ कर निकाल दें कि यह पाकिस्तान की घरेलू सिरीज़ के मैच हैं.

तब भी पाकिस्तान ने देश से बाहर 59 टेस्ट जीते हैं जो भारत से 17 ज़्यादा हैं, जबकि यह बात नहीं भूलनी चाहिए कि भारत ने देश से बाहर पाकिस्तान से अधिक टेस्ट मैच खेल रखे हैं.

भारत ने ऑस्ट्रेलियाई सरज़मीं पर पाकिस्तान से आठ टेस्ट मैच अधिक खेले हैं, लेकिन उनके 14 टेस्ट मैचों में वह सिर्फ़ पांच टेस्ट जीते हैं जो पाकिस्तान से सिर्फ़ एक ज़्यादा है.

भारत का इंग्लैंड में रिकॉर्ड बहुत ख़राब है जहां उसने 57 टेस्ट मैचों में से केवल छह में जीत हासिल की हैं जो कि पाकिस्तान से पांच कम हैं.

भारत ने वेस्ट इंडीज में पाकिस्तान से 26 टेस्ट अधिक खेलकर सिर्फ़ सात टेस्ट जीते हैं, जो पाकिस्तान से केवल दो अधिक हैं.

दक्षिण अफ़्रीका में पाकिस्तान और भारत का रिकार्ड बराबर है यानी दोनों को वहां दो- दो टेस्ट जीतने का मौक़ा मिला है. हालांकि भारत ने दक्षिण अफ्रीका में पाकिस्तान के 12 टेस्ट मुक़ाबले 17 टेस्ट खेल रखे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)