क्या मोहाली में पहली जीत नसीब होगी इंग्लैंड को

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption विराट कोहली

विराट कोहली की कप्तानी में जीत के रथ पर सवार भारतीय क्रिकेट टीम शनिवार से इंग्लैंड के ख़िलाफ मोहाली में तीसरा टेस्ट मैच खेलने उतर रही है.

राजकोट में पहला टेस्ट मैच ड्रा कराने के बाद भारत ने विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच को खेल के पांचवे और अंतिम दिन 246 रनों से अपने नाम किया.

हालांकि दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड के सबसे भरोसेमंद तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन की वापसी भी हुई लेकिन भारत के कप्तान विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा के पहली पारी में बनाए गए शतक इंग्लैंड पर भारी पडे. विराट कोहली ने दमदार बल्लेबाज़ी करते हुए अपने टेस्ट करियर का 50वां टेस्ट मैच 167 रनो की शतकीय पारी से यादगार बनाया.

यह उनके 14वां टेस्ट शतक था. विराट कोहली ने दूसरी पारी में भी 81 रन बनाए.

यह उनका 13वां अर्धशतक था.

इमेज कॉपीरइट Pti
Image caption चेतेश्वर पुजारा

वही चेतेश्वर पुजारा ने पहली पारी में 119 रन बनाए. यह उनके टेस्ट करियर का 10वां शतक था.

इससे पहले चेतेश्वर पुजारा ने पहले टेस्ट मैच में भी 124 रनो की शतकीय पारी खेली थी.

इतना ही नही उन्होंने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच में भी नाबाद 101 रन बनाए थे.

लगातार तीन टेस्ट शतक ठोककर उन्होंने अपने आपको रन मशीन साबित किया है और अपना स्ट्राइक रेट सुधारकर कप्तान विराट कोहली का दिल भी जीता है.

अब मोहाली में इंग्लैंड के गेंदबाज़ो की पहली कोशिश विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा से पार पाने की होगी.

भारत इस टेस्ट मैच में चोटिल विकेटकीपर रिद्धिमान साहा की जगह पार्थिव पटेल के साथ मैदान में उतरेगा.

पार्थिव पटेल की टेस्ट टीम में आठ साल बाद वापसी हो रही है.

इससे पहले उन्होंने साल 2008 में श्रीलंका के ख़िलाफ टेस्ट मैच खेला था.

पार्थिव पटेल अभी तक 20 टेस्ट मैचो में चार अर्धशतक की मदद से 683 रन बना चुके हैं

. उन्होंने अभी तक 41 कैच पकडे है और 8 स्टंप किए है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption मुरली विजय

बल्लेबाज़ी में भारत के मुरली विजय ने पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में शानदार 126 रन बनाए.

लेकिन दूसरे टेस्ट मैच में वह 20 और तीन रन ही बना सके.

उनके जोडीदार के एल राहुल भी दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में 0 और दूसरी पारी में 10 रन बनाकर आउट हुए.

अजिंक्य रहाणे भी अभी तक दोनो टेस्ट मैच में कुछ खास नही कर सके है.

वह तो आर अश्विन ने पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में 70 और दूसरे टेस्ट मैच में भी पहली पारी में 58 रन बनाकर संकटमोचक का काम किया.

ऐसे में मोहाली के तेज़ विकेट पर जहां इंग्लैंड तीन तेज़ गेंदबाज़ो के साथ खेल सकता है वहां मुरली विजय, के एल राहुल और अजिंक्य रहाणे को जमकर बल्लेबाज़ी करनी होगी.

इंग्लैंड के गेंदबाज़ो में पलटवार करने की क्षमता है.

उसके स्पिनर मोइन अली और आदिल रशीद ने अभी तक अच्छी गेंदबाज़ी की है.

अगर क्रिस ब्रॉड नही खेलते है तो उनकी जगह इंग्लैंड क्रिस वोक्स को अवसर दे सकता है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आर अश्विन

गेंदबाज़ी में भारत के आर अश्विन तुरूप का इक्का साबित हुए है.

वह दो टेस्ट मैच में 11 विकेट ले चुके है. युवा ऑफ स्पिनर जयंत यादव भी अपने पहले ही टेस्ट मैच में चार विकेट लेकर अपना चयन सही साबित कर चुके है.

दूसरी पारी में तो उन्होंने इंग्लैंड के तीन विकेट लेकर जीत में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

ऐसे में इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टेयर कुक और जो रूट के अलावा जोस बटलर पर सबकी नज़रे रहेंगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एलिस्टेयर कुक

जोस बटलर बेन डुकेट की जगह लेंगे जो तीन पारियों में केवल 18 रन बना सके.

मोहाली में इंग्लैंड का पिछला रिकार्ड कुछ ख़ास नही है.

भारत ने यहां इंग्लैंड को साल 2001 में 10 विकेट से और साल 2006 में 9 विकेट से हराया. जबकि साल 2008 में खेला गया टेस्ट मैच ड्रा रहा.

कुछ भी हो इंग्लैंड मोहाली में जीतने के लिए पूरा ज़ोर लगाएगा क्योंकि वह यहां भी हारा तो फिर उसके लिए सिरीज़ में वापसी करना मुश्किल होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)