भारत के लिए ये जीत क्यों है बड़ी?

इमेज कॉपीरइट HOCKEY INDIA TWITTER HANDLE

जूनियर वर्ल्ड कप हॉकी में ख़िताबी जीत भारत के लिए कई मायनों में बड़ी अहम है.

फ़ाइनल में भारत ने बेल्जियम को 2-1 से हराकर ख़िताब पर कब्ज़ा जमाया.

पढ़ें: भारत बना जूनियर विश्व कप हॉकी चैंपियन

15 साल बाद भारत जूनियर विश्व कप हॉकी चैंपियन बना है. भारत के लिए ये जीत इतनी बड़ी क्यों है इस पर एक नज़र

  • सीनियर और जूनियर विश्व कप हॉकी टूर्नामेंट में ये कुल मिलाकर भारत की सिर्फ़ तीसरी ख़िताबी जीत है. भारत की जूनियर टीम ने दो बार और सीनियर टीम ने सिर्फ़ एक बार विश्व कप जीता है.
  • सीनियर और जूनियर टीम मिलाकर पिछले 15 सालों में ये भारत की सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले भारत की जूनियर टीम ने ही विश्व कप ख़िताब जीता था.
  • भारत की सीनियर टीम ने अब तक सिर्फ़ एक बार, साल 1975 में विश्व कप का ख़िताब जीता था.
  • सीनियर टीम ने 1980 के मॉस्को ओलंपिक में आख़िरी बार गोल्ड मेडल जीता था.
  • इस पूरे टूर्नामेंट के दौरान भारत ने बड़ी तेज़ तर्रार और आक्रामक शैली की हॉकी खेली.
  • भारत पूरे टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारा. हॉकी विश्लेषक कह रहे हैं कि भारत इसी शैली में हॉकी खेलता रहा तो इसे भारतीय हॉकी के सुनहरे दौर की वापसी हो सकती है.
  • भारत पहला मेज़बान देश है जिसने जूनियर हॉकी विश्व कप जीता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे