दंगल ने की छवि ख़राब : गीता फोगाट के कोच

इमेज कॉपीरइट DANGAL MOVIE

इन दिनों सिनेमा हॉल के बड़े पर्दे पर आमिर खान की 'दंगल' कामयाबी के झंडे गाड़ रही है. अब कहानी फ़िल्मी है तो रील लाइफ, रीयल लाइफ से थोड़ा अलग तो होगी ही.

फ़िल्म शुरू होने से पहले ही पर्दे पर लिखा आ जाता है कि कहानी काल्पनिक है.

वैसे कहानी इतनी काल्पनिक भी नहीं है क्योंकि गीता फोगाट और बबीता फोगाट ने साल 2010 में दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में अपना जलवा स्वर्ण और रजत पदक जीतकर तो दिखाया ही था.

नितेश तिवारी- 'दंगल' के 'असली पहलवान'

टि्वंकल और सलमान फ़ैंस के बीच 'दंगल'

दंगल: तीन दिनों में की 100 करोड़ की कमाई

इमेज कॉपीरइट Pyara Ram Sondhi

'दंगल' फ़िल्म में दिखाया गया है कि गीता और बबीता के पिता महावीर फोगाट की राष्ट्रीय कोच से कुश्ती के दांव-पेच को लेकर तकरार चलती रहती है. महावीर फोगाट ख़ुद एक राष्ट्रीय स्तर के पहलवान रह चुके हैं.

सोशल मीडिया: 'कैश का दंगल करवाने के बाद अब #BoycottDangal'

शाहरुख़ की दीवानी है आमिर की 'दंगल गर्ल'

बॉक्स ऑफ़िस पर 'आमिर और छोरियों का दंगल'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
दंगल को फ़िल्म समीक्षकों ने कितने स्टार दिए हैं, देखिए कितनी धांसू है दंगल.

यहां तक कि फिल्म के क्लाइमैक्स में दिखाया गया है कि महावीर फोगाट को एक कमरे में बंद कर दिया जाता है ताकि फ़ाइनल मुक़ाबले में वे अपनी ही कोचिंग देना न शुरू कर दें. लेकिन दरअसल हक़ीक़त इससे अलग है.

साल 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान भारतीय महिला पहलवान टीम के चीफ़ कोच रहे प्यारा राम सोंधी ने फगवाड़ा से बीबीसी को ख़ास बातचीत में बताया कि महावीर फोगाट बेहद सज्जन व्यक्ति हैं और उन्हें कमरे में बंद करने वाली बात पूरी तरह से ग़लत है.

रईस और दंगल पार कर पाएंगी नई खड़ी हुई दीवारें?

100 करोड़ी फ़िल्मों के 'दबंग' हैं सलमान

सल्लू बोले, मैं आमिर से नफ़रत करता हूँ, लेकिन...

इमेज कॉपीरइट Pyara Ram Sondhi

उन्होंने कभी भी नैशनल कैंप के दौरान गीता और बबीता की ट्रेनिंग को लेकर कोई वाद-विवाद नहीं किया. यहां तक कि फ़िल्म में गीता और कोच के बीच दिखाए गए मतभेद की बात से भी सोंधी ने इनकार किया.

कोच प्यारे राम सोंधी के मुताबिक महावीर फोगाट को अमूमन चुपचाप रहने वाले व्यक्ति हैं. इसके अलावा गीता और बबीता ने ट्रेनिंग कैंप के दौरान कभी कोई फ़िल्म सिनेमा हॉल जाकर नहीं देखी.

प्यारा राम सोंधी आगे कहते हैं कि महावीर फोगाट तो नहीं लेकिन एक दूसरे पूर्व पहलवान प्रशिक्षकों की ग़ैर मौजूदगी में अपनी बेटी को ट्रेनिंग देने के कुछ अलग तरीके ज़रूर बताते थे.

इमेज कॉपीरइट jpg
Image caption बबीता और विनेश

आखिरकार उन्हें समझाया गया कि गांव-देहात की कुश्ती प्रतिस्पर्धाओं और अतंरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगिताओं की ट्रेनिंग में बहुत अंतर है. बाद में वह भी मान गए कि सच क्या है.

प्यारा राम सोंधी ने बताया कि उनकी कभी भी महावीर फोगाट से बहस तो क्या लंबी बातचीत तक नहीं हुई. उनसे बस दो-तीन मुलाक़ात ही हुई है.

यहां तक कि जब गीता और बबीता कामयाबी की दास्तान लिख रही थीं तब उन्हें यह तक पता नहीं था कि महावीर फोगाट दर्शकों के बीच कहां बैठे हैं. उन दिनों तो पूरी भारतीय महिला टीम और कोच गेम्स विलेज में ठहरे थे. महावीर फोगाट और उनका परिवार एक दर्शक के रूप में ही स्टेडियम में मौजूद था.

इमेज कॉपीरइट jpg
Image caption बबीता कुमारी

लड़कों से लड़कियों की ट्रेनिंग की बात को लेकर प्यारा राम सोंधी ने कहा की जब उन्होंने विदेशों में ऐसा देखा तो उनके भी विचार बदले, लेकिन बड़े वज़न की लड़कियों की ट्रेनिग कम वज़न के पहलवानों से कराई जाती थी.

प्यारा राम सोंधी इस बात को स्वीकार करते हैं कि गीता और बबीता को लड़कों के साथ बचपन से मुक़ाबला करने की आदत ने बड़ा पहलवान बनाया. इसका सीधा सा कारण है कि लड़कों के पास लड़कियों के मुक़ाबले बेहतर तकनीक होती है.

इमेज कॉपीरइट PYARA RAM SONDHI

सोंधी यह भी बताते हैं कि गीता और बबीता ट्रेनिंग के दौरान शाकाहारी थीं. हालांकि फिल्म में उन्हें प्रोटीन के लिए नॉनवेज खाते हुए दिखाया गया है. वैसे ख़ुद प्यारा राम सोंधी ने अभी तक 'दंगल' नहीं देखी है लेकिन उनके साथी कोच उन्हें बता रहे हैं कि फ़िल्म बेहतरीन है.

जहां तक फ़िल्म में नेशनल कोच को 'खलनायक' की तरह पेश करने की बात है तो उसे लेकर प्यारा राम सोंधी का कहना है कि इसके ख़िलाफ कोई कदम तो वह फ़िल्म देखने के बाद ही उठाएंगे.

मीडिया रिपोर्टों में 'दंगल' के निर्माताओं के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई की ख़बरों से भी प्यारा राम सोंधी ने इनकार किया, हालांकि उन्होंने इतना ज़रूर माना कि वह फ़िल्म में कोच की ख़राब छवि पेश करने से दुखी हैं. उन्होंने कहा कि फ़िल्म देखने के बाद ही वो कुश्ती फेडरेशन से बात करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे