लोढ़ा पैनल 50 साल पहले बनना चाहिए था: बेदी

बिशन सिंह इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पूर्व क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी

पूर्व क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी ने सोमवार को कहा कि भारतीय क्रिकेट में सारी बुरी चीज़ें पिछले कुछ दशकों से हो रही हैं. उन्होंने कहा कि लोढ़ा कमेटी ने जो कुछ भी किया है उसे 50 साल पहले हो जाना चाहिए था.

जयपुर साहित्य उत्सव में बिशन सिंह बेदी ने सुरेश मेनन से एक किताब के लोकार्पण के वक़्त कहा, ''भारतीय क्रिकेट के संचालन में सुधार 50 साल पहले ही हो जाना चाहिए था. सुप्रीम कोर्ट ने ख़ुद से ही इसमें हस्तक्षेप नहीं किया है लेकिन क्रिकेट प्रशासन में समझदारी और ईमानदारी के लिए लोढ़ा पैनल काफ़ी महत्वपूर्ण है.''

'जस्टिस लोढ़ा की सिफारिशें स्वाभाविक नहीं'

क्या अब होंगे बीसीसीआई में बदलाव?

लोढ़ा कमेटी की गाज इन 10 नेताओं पर गिरेगी?

'प्रतिबंध टीमों पर, सज़ा खिलाड़ियों को क्यों'

बीसीसीआई को चलाने वाली कमेटी के संभावित सदस्यों में से बेदी का नाम हटा दिया गया था. उन्होंने कहा कि बीसीसीआई यह सुनिश्चित करेगा कि सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को लागू नहीं होने दिया जाए.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption बेदी और कीर्ति आज़ाद बीसीसीआई में भ्रष्टाचार पर उठाते रहे हैं आवाज़

बेदी ने कहा कि जस्टिस लोढ़ा पैनल के साथ एक शुरुआत हुई है लेकिन बीसीसीआई और राज्य क्रिकेट संघों में कुछ लालची अधिकारी हैं जो ऐसा नहीं होने देना चाहते.

क्रिकेट प्रशासन में नेताओं की संलिप्तता पर बेदी ने कहा कि राजनेता कई मुद्दों पर आपस में भिड़ते हैं लेकिन जब क्रिकेट का मुद्दा आता है तो ये सारे एक हो जाते हैं.

बेदी ने कहा, ''क्रिकेट के मुद्दे पर सभी राजनीतिक दल चाहे वो बीजेपी हो या कांग्रेस या फिर कोई और पार्टी, सभी एक हो जाते हैं. संसद में कई मुद्दों पर इनके बीच मतभेद देखने को मिलता है लेकिन जब ये क्रिकेट में आते हैं तो सारे एक हो जाते हैं.''

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption क्रिकेट में राजनीतिक संलिप्तता के ख़िलाफ़ हैं बेदी

आईपीएल के बारे में बेदी ने कहा कि यह एक माकूल क्रिकेट टूर्नामेंट के ज़्यादा पैसा बनाने का ज़रिया है.

उन्होंने कहा कि क्रिकेटर टेस्ट मैच खेलना चाहते हैं लेकिन ये आईपीएल खेलाना चाहते हैं. बेदी ने जयपुर साहित्य उत्सव में ये बातें सुरेश मेनन से एक किताब के लोकार्पण के वक़्त कहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे