पाक क्रिकेट में महफ़िल सजने से पहले स्यापा हो गया

  • 1 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ल्यूक राइट

पाकिस्तान सुपर लीग की एक टीम 'क्वेटा ग्लैडिएटर्स' के पांच विदेशी क्रिकेटरों ने सुरक्षा चिंताओं के कारण लाहौर न जाने का फैसला किया है.

सुपर लीग का आख़िरी मुकाबला पांच मार्च को लाहौर में खेला जाना है. इससे पहले के सभी मैच संयुक्त अरब अमीरात में खेले गए हैं.

इन क्रिकेटरों में इंग्लैंड के केविन पीटरसन, ल्यूक राइट, टाइमल मिल्स, दक्षिण अफ्रीका के रिली रूसो और न्यूजीलैंड के नॉथन मैक्कुलम शामिल हैं.

दूसरी ओर पाकिस्तान सुपर लीग के चेयरमैन नजम सेठी ने ट्विटर पर एक बयान में कहा है कि फ़ाइनल में शामिल दोनों टीमों में चार-चार विदेशी खिलाड़ी शामिल होंगे.

इमेज कॉपीरइट Twitter

शारजाह में मौजूद बीबीसी संवाददाता अब्दुल रशीद शकूर के अनुसार पीटरसन, राइट, मिल्स और मैक्कुलम ने इस बारे में मंगलवार की रात ही घोषणा कर दी थी और पीटरसन तो पहले प्लेऑफ़ के तुरंत बाद इंग्लैंड रवाना हो गए थे.

रिली रूसो ने लाहौर न जाने की पुष्टि बुधवार शाम ट्विटर पर एक संदेश में की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रूसो लाहौर न जाने का फैसला करने वाले पांचवें विदेशी क्रिकेटर हैं

अपने संदेश में रूसो ने कहा ''जिन लोगों को अभी तक इसके बारे में जानकारी नहीं है, मैं उनके लिए बोझिल मन से घोषणा कर रहा हूँ कि मैं फ़ाइनल में भाग नहीं लूँगा.''

क्वेटा ग्लैडिएटर्स को अपने पांच खिलाड़ियों के लाहौर न जाने की घोषणा के बाद फ़ाइनल के लिए इस सूची से विदेशी क्रिकेटरों का चयन करना होगा जो पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने फ़्रेंचाइजी मालिकों के सुपुर्द की है.

क्वेटा ने पहले प्लेऑफ़ में पेशावर ज़ुल्मी को एक रन से हराकर फाइनल में जगह बनाई है.

इमेज कॉपीरइट PCB
Image caption केविन पीटरसन के अलावा ल्यूक राइट, टाइमल मिल्स और न्यूजीलैंड के नॉथन मैक्कलम भी लाहौर नहीं जाएंगे

याद रहे कि पाकिस्तान सुपर लीग की कमेंट्री करने वाले तीन विदेशी कॉमेंटेटर्स ने भी लाहौर न जाने का फैसला किया है और फाइनल टीम की कमेंट्री टीम रमीज़ राजा, बाज़ीद ख़ान और वक़ार यूनुस शामिल होगी.

वक़ार यूनुस पीएसएल के दुबई और शारजाह में खेले जाने वाले मैच की कमेंट्री टीम में शामिल नहीं थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे