बुबका, पॉवेल और जॉयनर के रिकॉर्ड मिटा दिए जाएंगे?

  • 3 मई 2017

एथलेटिक्स में 2005 के पहले बने वर्ल्ड रिकॉर्ड को खत्म करने के प्रस्ताव से खेलों की दुनिया में सदमे की लहर दौड़ गई है.

यूरोपीय एथलेटिक्स ने पिछले सारे वर्ल्ड रिकॉर्ड खत्म करने का प्रस्ताव किया है क्योंकि संघ का मानना है कि पहले नशीली दवाओँ की जांच के अच्छे इंतज़ाम नहीं थे. एथलेटिक्स संघों के अंतरराष्ट्रीय संगठन, आईएएएफ के प्रमुख सेब को ने इस विचार में दिलचस्पी दिखाई है जिससे इस प्रस्ताव को काफी बल मिला है.

अगर ये प्रस्ताव लागू हो गया तो खेलों की दुनिया के कुछ सबसे मशहूर पल और नाम इतिहास से गायब हो जाएंगे. इनमें से कुछ नाम हैं...

माइक पॉवेल, पुरुषों की लंबी कूद, 8.95 मीटर

जिन रिकॉर्ड्स पर खतरा मंडरा रहा है उसमें कम ही हैं जो इस रिकॉर्ड की बराबरी कर सकते हैं. टोक्यो में 1991 की वर्ल्ड चैम्पियनशिप के दौरान ये पल आया था.

इससे पहले लंबी कूद का रिकॉर्ड 1968 में बॉब बीमॉन ने मेक्सिको में बनाया था. रिकॉर्ड जिस जगह पर बना वो जगह ऐसी ऊंचाई पर थी जहां हवा का दबाव बेहद कम होता है. ये स्थिति लंबी कूद वालों के लिए आदर्श मानी जाती है. बहुत से लोग मानते थे कि ये रिकॉर्ड कभी नहीं टूटेगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption माइक पॉवेल

जापान की राजधानी टोक्यो में वो एक असाधारण रात थी. पांच दिन पहले ही कार्ल लुईस ने 100 मीटर की दौड़ में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था. उस रात उन्होंने पहले चैम्पियनशिप का रिकॉर्ड बनाया, फिर निजी रिकॉर्ड और फिर एक सेंटीमीटर से वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया. हालांकि इसमें उन्हें हवा की मदद मिली थी इसलिए इसे नहीं गिना गया.

कार्ल लुईस ने लंबी कूद में भी हिस्सा लिया. उनके प्रतिद्वंद्वी माइक पॉवेल परेशान थे क्योंकि उनकी छलांग जो कार्ल लुईस के करीब थी उसे फाउल माना गया जबकि वो उसे सही मान रहे थे लेकिन इसके बाद जब वो कूदे तो सीधे 8.95 मीटर तक जा पहुंचे. इस बार हवा नहीं थी और नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया.

लुईस के पास एक मौक़ा और था वो काफी करीब पहुंचे लेकिन रिकॉर्ड नहीं टूटा. तब से आज तक कोई भी खिलाड़ी पॉवेल के रिकॉर्ड के 20 सेंटीमीटर के दायरे में भी नहीं पहुंचा.

फ्लोरेंस ग्रिफिथ जॉयनर, महिलाओं की 100 मीटर दौड़, 10.49 सेकेंड

एथलेटिक्स के इतिहास में एक बेहद असाधारण और छोटा करियर रहा फ्लोरेंस ग्रिफिथ जॉयनर का जिन्होंने 100 मीटर की दौड़ में वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ कर 1988 के सोल ओलंपिक्स के लिए क्वालिफाई किया.

वो तेज़ हवाओँ वाला दिन था और एसोसिएशन ऑफ ट्रैक एंड फील्ड स्टैटिस्टिशियंस ने खेल के साज़ो सामान बनाने वाली कंपनी के इनकार के बावजूद कहा कि रिकॉर्ड,"शायद तेज़ हवा की मदद से बना लेकिन इसे वर्ल्ड रिकॉर्ड की मान्यता मिली."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ्लोरेंस ग्रिफिथ जॉयनर

उसके बाद ओलंपिक के गेम में भी उन्होंने 200 मीटर का रिकॉर्ड बनाया. अब तक दोनों में से किसी रिकॉर्ड के आसपास कोई नहीं पहुंचा है.

इसके तुरंत बाद बेन जॉन्सन के ड्रग टेस्ट में पॉजिटिव आने के बाद ग्रिफिथ जॉयनर ने सबको हैरान करते हुए खेलों से संन्यास ले लिया, ये कह कर कि वो कारोबारी दुनिया में जाना चाहती हैं.

इसके 10 साल बाद यानी 1998 में ही उनकी मौत हो गई.

सर्गेइ बुबका, पोल वॉल्ट, 6.14 मीटर

पॉवेल और ग्रिफिथ तो अचानक आए और ऐसा रिकॉर्ड बनाया जो टूट ना सका लेकिन बुबका अपने दशक भर के करियर में रिकॉर्ड बनाते आए थे.

उनका पहला रिकॉर्ड इंडोर था जो विलिनस में 1984 में बना, जब वो सोवियत संघ की ओर से खेल रहे थे. उन्होंने इस रिकॉर्ड को महीने भर में ही दो बार तोड़ा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सर्गेइ बुबका

इसके बाद जब खेलों का सीज़न खुले मैदान में पहुंचा तो वहां भी कुछ नए कीर्तीमान बने. बुबका ने 1984 और 1991 में चार अलग अलग मौक़ों पर और 1992 में तीन बार अपने ही रिकॉर्ड तोड़े.

सब मिला कर उन्होंने इस खेल में रिकॉर्ड का पैमाना करीब 35 सेमी ऊपर कर दिया और अंत में इनडोर के लिए 1993 में रिकॉर्ड बना 6.15 मीटर और आउटडोर के लिए 1994 में 6.14 मीटर.

पाउला रेडक्लिफ, मैराथन, 2 घंटे 15 मिनट 25 सेकेंड

ब्रिटिश धाविका पाउला रेडक्लिफ पहले ही इस प्रस्ताव के खिलाफ बोल चुकी हैं. उन्होंने 2003 में जो रिकॉर्ड बनाया था वो भी मिटा दिया जाएगा.

2003 में उन्होने लंदन मैराथन में ये रिकॉर्ड बनाया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाउला रेडक्लिफ़

उनका रिकॉर्ड इतिहास में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है क्योंकि एक एथलीट शारीरिक रूप से जो सबसे ज़्यादा हासिल कर सकता है वो उसके काफी करीब था.

यूरोपीय एथलेटिक्स के प्रमुख ने पहले ही रेडक्लिफ से माफ़ी मांगी है और कहा है कि ड्रग्स की धोखाधड़ी को खत्म करने की कोशिश में उनके रिकॉर्ड की बलि चढ़ सकती है.

हिकाम एल गुएरूज, 1500 मीटर, 3 मिनट 26 सेकेंड

मोरक्को के एल गुएरूज को मध्यम दूरी का सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ धावक माना जाता है. उन्होंने एथलेटिक्स में 10 साल तक शीर्ष पर रह कर तीन रिकॉर्ड बनाए.

इनमें से एक मील भर की थी और दूसरी 2000 मीटर की, इनके मुक़ाबले कम ही होते हैं लेकिन 1500 मीटर में जो उन्होंने रिकॉर्ड बनाया वो बिल्कुल अलग था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ये रिकॉर्ड 1998 की जुलाई में पिछले रिकॉर्ड को 1.37 सेकेंड से तोड़ कर रोम में बना.

यूरोपीय एथलेटिक्स का कहना है कि उनके प्रस्ताव का मतलब है कि पिछले रिकॉर्ड सर्वकालिक सूची में मौजूद रहेंगे लेकिन उन्हें अब आधिकारिक वर्ल्ड रिकॉर्ड का दर्जा नहीं मिलेगा.

इसी तरह के कदम भाला फेंक के लिए भी उठाए गए थे. खिलाड़ी इसे बहुत दूर दूर तक फेंक रहे थे जिससे लोगों का जीवन जोखिम में पड़ सकता था. इस जोखिम को दूर करने के लिए भाले को भारी बनाया गया. नतीजा ये हुआ कि हल्के भाले से बने पहले कि रिकॉर्ड कभी तोड़े नहीं जा सके हालांकि उन्हें रिकॉर्ड की सूची में जगह मिलती रही.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)