आईपीएल नीलामी में सस्ते बिके जयदेव उनादकट की शानदार हैट-ट्रिक

जयदेव उनादकट इमेज कॉपीरइट BCCI

इस साल के आईपीएल में राइज़िंग पुणे सुपरजाइंट्स ने जब जयदेव उनादकट की 30 लाख की बोली लगाई तो लोगों को लगा कि अभी उन्हें और वक़्त चाहिए.

25 साल के उनादकट आईपीएल में तीन फ्रेंचाइजी के हिस्सा रहे. इससे पहले वह रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली डेयरडेविल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स में रह चुके थे.

कौन हैं शतक से सनसनी मचाने वाले संजू सैमसन

सोशल: 'दस लाख के त्रिपाठी करोड़ी पर भारी'

लेकिन पिछले दो सालों में वह केवल दो मैच ही खेले थे. ये दोनों मैच उन्होंने केकेआर और दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ़ से खेले थे.

जयदेव की पहचान पुणे टीम में बनी. पुणे की टीम ने असफल हो रहे अशोक डिंडा के बदले जयदेव को प्राथमिकता दी. जयदेव को न केवल फर्स्ट 11 में जगह मिली बल्कि पुणे के पिछले आठ मैचों में उन्होंने अहम भूमिका भी अदा की.

इमेज कॉपीरइट BCCI

जयदेव ने 17 विकेट झटके हैं और उनका इकोनॉमी रेट 7.71 है. वह पुणे टीम में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं.

शनिवार को जयदेव उनादकट सनराइजर्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ पुणे के लिए वरदान साबित हुए. जयदेव ने चार ओवर में 30 रन देकर पांच विकेट झटके.

इमेज कॉपीरइट Twitter

आख़िरी ओवर में हैदराबाद को जीत के लिए 13 रनों की ज़रूरत थी लेकिन उनादकट ने अपने इस ओवर में बिना रन दिए हैट-ट्रिक लिया. उनादकट की बदौलत हैदराबाद की टीम 149 रन के स्कोर का पीछा नहीं कर पाई और 12 रनों से हार गई.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सनराइजर्स हैदराबाद को आख़िरी ओवर में 13 रन की ज़रूरत थी और बिपुल शर्मा स्ट्राइक पर थे. जयदेव उनादकट ने पहली गेंद ऑफ स्टंप के बाहर फेंकी जो कि एक धीमी गेंद थी. बिपुल शर्मा गेंद को छू तक ना सके.

जयदेव उनादकट ने दूसरी गेंद भी धीमी फेंकी जिस पर बिपुल शर्मा ने बड़ा स्ट्रोक खेलने की कोशिश की, लेकिन गेंद स्क्वेयर लेग पर खड़े बेन स्टोक्स के हाथों में आ गई.

जयदेव उनादकट ने तीसरी गेंद पर एक बार फिर धीमी गेंद का इस्तेमाल किया और राशिद खान उसे समझ ना सके. जयदेव उनादट ने अपनी ही गेंद पर राशिद खान का कैच लपक लिया. इस तरह उनादकट को ओवर में दूसरा विकेट मिला और इसके साथ-साथ तीसरी गेंद पर भी रन नहीं बना.

इमेज कॉपीरइट Twitter

जयदेव उनादकट ने चौथी गेंद पर भुवनेश्वर कुमार को भी शून्य पर आउट कर दिया. इस तरह उनादकट ने हैट-ट्रिक बनाया और मैच में अपने पांच विकेट पूरे कर लिए. वहीं सनराइजर्स हैदराबाद के बल्लेबाज़ आख़िरी ओवर की चौथी गेंद पर भी रन बनाने में नाकाम रहे.

उनादकट की पांचवी गेंद पर सिद्धार्थ कौल बल्लेबाज़ी करने आए, जिसे वो छू तक ना सके. अब सनराइजर्स हैदराबाद की हार तय हो गई थी क्योंकि आख़िरी गेंद पर टीम को 13 रन बनाने थे जो कि नामुमकिन था.

जयदेव उनादकट ने अपनी आख़िरी गेंद पर भी रन नहीं दिया. इस तरह उन्होंने अपनी टीम पुणे सुपरजाइंट्स को मैच तो जिताया ही, साथ में उन्होंने ओवर में हैट्रिक लेते हुए मेडन ओवर भी फेंक दिया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

आईपीएल के इतिहास में उनादकट तीसरे गेंदबाज़ बन गए जिन्होंने मेडेन ओवर में हैट-ट्रिक कर दिखाया. इससे पहले इस मामले में सैमुअल बैड्री और लासिथ मलिंगा का शुमार था. इस पारी के बाद उनादकट ने कहा कि यदि आपके पास आत्मविश्वास है तो कुछ भी कर सकते हैं.

कौन हैं जयदेव?

जयदेव दीपकभाई उनदाकट का जन्म 18 अक्टूबर 1991 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. वह बाएं हाथ के तेज गेंदबाज़ हैं. जयदेव 2010 विश्व कप न्यूज़ीलैंड में इंडिया की तरफ़ से अंडर-19 टीम का नेृतृत्व कर चुके हैं. इन्होंने पहली बार पोरबंदर के दलीप सिंह स्कूल ऑफ क्रिकेट के लिए खेला था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

यहां अपने खेल से जयदेव ने कोच को प्रभावित किया था. विश्व कप के बाद ही जयदेव की एंट्री आईपीएल में हुई थी. तब कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए उन्हें चुना गया था.

वसीम अकरम केकेआर के बोलिंग कोच थे और वह जयदेव की गेंदबाज़ी से ख़ुश थे. जून 2010 में जयदेव के इंग्लैंड दौरे के लिए इंडिया ए में चुना गया. यह फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उनका डेब्यू था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे