क्या कोहली इन दो खिलाड़ियों को बाहर करेंगे?

विराट कोहली इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान ने दक्षिण अफ़्रीका को पीटा, श्रीलंका ने भारत को हराया और बांग्लादेश ने न्यूज़ीलैंड को दिन में तारे दिखा दिए. कुल मिलाकर चैम्पियंस ट्रॉफ़ी अपने शबाब पर है और एक के बाद एक उलटफेर जारी हैं.

लेकिन टीम इंडिया के लिए अब एक और हार के साथ टिके रहने की गुंजाइश ख़त्म हो चुकी है. रविवार को होने वाला भारत और दक्षिण अफ़्रीका का मैच लीग मुक़ाबला था, लेकिन श्रीलंका की धमाकेदार जीत ने इस करो या मरो में बदल दिया है.

चैंपियंस ट्रॉफी: टीम इंडिया की 5 विराट चुनौतियां

चैंपियंस ट्रॉफ़ी: बांग्लादेश ने न्यूज़ीलैंड को 5 विकेट से पीटा

कोहली की अगुवाई में उतरी भारतीय टीम को इस टूर्नामेंट के प्रमुख दावेदारों में गिना जा रहा था लेकिन पड़ोसी टीम के बल्लेबाज़ों ने करारी शिकस्त देकर उनके आत्मविश्वास और टीम कम्पोज़िशन दोनों पर सवालिया निशान लगा दिया.

भारतीय गेंदबाज़ी आक्रमण पर बड़ा सवाल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

और जानकार भी इस बात की तस्दीक कर रहे हैं. वरिष्ठ खेल पत्रकार विजय लोकपल्ली ने बीबीसी से कहा, ''इस हार ने बता दिया है कि टीम के साथ सब कुछ अच्छा नहीं है. श्रीलंका से हार ने अगला मैच नॉकआउट बना दिया है.''

भारत श्रीलंका के ख़िलाफ़ 320 रन बनाकर भी मैच हार गया. और उससे भी बड़ी बात ये है कि श्रीलंकाई पारी में कभी भी ऐसा नहीं लगा कि भारतीय गेंदबाज़, बल्लेबाज़ों को दबाव या तनाव में ला पाए. और इसकी वजह है विकेट ना चटका पाना.

लोकपल्ली ने कहा, ''दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ मैच में मोहम्मद शमी और आर अश्विन को मौक़ा दिया जा सकता है जिससे गेंदबाज़ी में सुधार की उम्मीद है. इसकी वजह ये है कि शमी विकेट चटकाने के लिए जाने जाते हैं और अश्विन किसी भी टीम के ख़िलाफ़ दबाव बना सकते हैं.''

शमी और अश्विन पर दांव की तैयारी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि, मुश्किल ये है कि ये दोनों ही गेंदबाज़ टूर्नामेंट के शुरुआती मैच नहीं खेले हैं इसलिए मैच प्रैक्टिस की कमी है. लेकिन कोहली इस आशंका के बावजूद शायद टीम में बदलाव के लिए तैयार हैं.

उन्होंने मैच से पहले कहा भी, ''जैसा कि मैंने कहा, सभी विकल्प खुले हैं. हमारे दिमाग में कुछ चीज़ें थीं, लेकिन श्रीलंका के ख़िलाफ़ वो कामयाब नहीं रहीं.''

कोहली ने कहा, ''कई चीज़ों पर चर्चा होनी है. अगर गेंदबाज़ी आक्रमण में कुछ बदलाव कर टीम में ज़्यादा संतुलन लाया जा सकता है, तो इस बारे में ज़रूर विचार किया जाएगा.''

किस पर गिरेगी गाज़?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब सवाल उठता है कि दो खिलाड़ियों को जगह देनी है तो कौन से दो खिलाड़ियों को बाहर बैठाया जा सकता है?

रवींद्र जडेजा ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ काफ़ी ढीली गेंदबाज़ी की थी और बीच के ओवरों में श्रीलंकाई बल्लेबाज़ों ने उन पर प्रहार कर अपनी जीत का रास्ता बनाया.

लेकिन इसके बावजूद उन्हें शायद ही टीम से बाहर किया जाए. वजह ये है कि वो गेंदबाज़ी के साथ बल्लेबाज़ी भी कर लेते हैं और निचले क्रम में उनका होना टीम के लिए फ़ायदेमंद साबित होता है. साथ ही उनकी फ़ील्डिंग भी कमाल की है.

जाधव और यादव बैठेंगे बाहर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसके अलावा हाल में वनडे टीम का हिस्सा बने हार्दिक पंड्या का खिलाना भी ज़रूरी सा दिख रहा है क्योंकि वो मध्यम तेज़ गेंदबाज़ी करते हैं जो इंग्लैंड के हालात के माकूल हैं. साथ ही वो आक्रामक बल्लेबाज़ी भी कर लेते हैं.

इस पसोपेश में फंसे कोहली उमेश यादव को बाहर कर शमी को टीम में जगह दे सकते हैं. यादव के पास रफ़्तार है लेकिन डेक गेंदबाज़ होने की वजह के स्विंग का फ़ायदा नहीं मिल रहा.

भुवनेश्वर कुमार के अलावा शमी गेंद को मूव कराकर बल्लेबाज़ को मुश्किल में डाल सकते हैं.

दस विकेट चटकाना ज़रूरी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अश्विन की जगह बनाने के लिए केदार जाधव को बाहर बैठाया जा सकता है. लोकपल्ली ने कहा, ''मेरे हिसाब से जाधव को बाहर रखना होगा. क्योंकि वो दस ओवर डालने वाले गेंदबाज़ नहीं है. उनसे आप पांच ओवर डलवा सकते हैं जबकि अश्विन आपके बेस्ट बॉलर हैं.''

उन्होंने कहा, ''जब सामने वाली टीम में हाशिम अमला, डिकॉक, डीविलियर्स, मिलर और ड्यूमिनी जैसे बल्लेबाज़ हों तो आप डिफ़ेंसिव खेलकर मैच नहीं जीत सकते.''

उन्होंने कहा, ''आपको दस विकेट चटकाने वाले गेंदबाज़ चाहिए, इसलिए शमी और अश्विन को मौक़ा मिल सकता है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे