फ्रेंच ओपन: रफ़ाएल नडाल का परफेक्ट 10

  • 11 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

10 का दम

फ्रेंच ओपन में रफ़ाएलनडाल के दबदबे की धमक साल 2005 में शुरू हुई.

  • साल 2005, 2006, 2007, 2008 में लगातार चैंपियन बने
  • साल 2010, 2011, 2012, 2013 और 2014 में भी ख़िताब जीता.
  • साल 2005 से रोलां गैरों पर 79 मैच जीते
  • सिर्फ़ दो बार हार का सामना किया है.
  • साल 2009 में रॉबिन सोडरलिंग और साल 2014 में नोवाक जोकोविच ने मात दी

पेरिस में लाल बजरी के कोर्ट पर रविवार को भी वही करिश्मा हुआ जो बीते 13 बरसों में नौ बार हो चुका था.

हाथ में रैकेट थामे और अपनी बाहों की मांसपेशियों का दम दिखाते स्पेन के रफ़ाएल नडाल कोर्ट पर आए और ख़िताबी जंग को सीधे सेटों में अपने नाम कर लिया.

तीन सेटों में ही ख़त्म हो गए मुक़ाबले में स्विट्जरलैंड के स्टेन वावरिंका फ्रेंच ओपन के सदाबहार बादशाह के सामने बरसों से सरेंडर करते रहे बाकी विरोधियों की ही तरह पूरी तरह बेबस दिखे.

31 बरस के नडाल ने मुक़ाबला 6-2, 6-3, 6-1 से अपने नाम किया.

क्यों फ़्रेंच ओपन टेनिस में नहीं खेलेंगे फ़ेडरर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस बार अंतर था सिर्फ़ ये कि नडाल ने वो मुकाम हासिल कर लिया जो अब तक कायनात में कोई और टेनिस खिलाड़ी हासिल नहीं कर सका है.

लॉन टेनिस में ओपन युग शुरू होने के बाद किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में दस बार ट्रॉफी जीतने वाले नडाल पहले खिलाड़ी बन गए हैं.

मार्टिना नवरातिलोवा ने नौ बार विंबलडन का खिताब जीता था.

इसके पहले ऑस्ट्रेलिया की मारग्रेट कोर्ट ने साल 1960 से 1973 के बीच 11 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption स्टेन वावरिंका ने साल 2015 में फ्रेंच ओपन खिताब जीता था लेकिन साल 2017 के फ़ाइनल में वो कमाल नहीं दिखा सके.

सिर्फ़ फ़ेडरर आगे

जीत के बाद नडाल ने कहा, "मैं सभी प्रतियोगिताओं में सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करता हूं लेकिन यहां तो मुझे जैसा महसूस होता है, उसे बयान करना मुश्किल है. आप इसकी तुलना नहीं कर सकते हैं."

फ्रेंच ओपन में 10वीं बार ट्रॉफी जीतने वाले नडाल ने ग्रैंड स्लैम खिताबों की संख्या 15 तक पहुंचा दी है.

उनसे आगे सिर्फ रोजर फ़ेडरर हैं जिन्होंने 18 ग्रैंड स्लैम खिताब जीते हैं.

फेडरर ने नडाल को हराकर जीता ख़िताब

मयामी ओपन में नडाल को हरा फ़ेडरर बने चैंपियन

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे