भारत का खेल तो नहीं बिगाड़ देगा बांग्लादेश

  • 12 जून 2017
इमेज कॉपीरइट PA

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी के सेमी फ़ाइनल में भारत का मुक़ाबला बांग्लादेश से होगा. ये मुक़ाबला 15 जून को बर्मिंघम में खेला जाएगा.

  • चैम्पियंस ट्रॉफ़ी सेमीफ़ाइनल- भारत बनाम बांग्लादेश
  • 15 जून को बर्मिंघ में मुक़ाबला
  • बांग्लादेश इतनी मज़बूत नहीं कि भारत को हरा दे- गांगुली
  • कई बार उलटफ़ेर कर चुकी है बांग्लादेशी टीम

इस मुक़ाबले से पहले भारत के पूर्व कप्तान और क्रिकेटर कमेंटेटर सौरव गांगुली ने एक निजी टीवी चैनल पर कहा है, "भारतीय टीम बेहद प्रोफ़ेशनल है, बांग्लादेश को इस टीम पर अंकुश पाने में बहुत मुश्किल होगी."

इतना ही नहीं, सौरव गांगुली ने ये भी कहा, "काग़ज पर बांग्लादेश की टीम, दक्षिण अफ़्रीका से कमज़ोर है. हालांकि वे अच्छी चुनौती दे सकते हैं क्योंकि उनकी बैटिंग अच्छी है और वे स्पिन खेल सकते हैं. गेंदबाज़ी भी अच्छी है. लेकिन मैं निश्चिंत नहीं हूं कि वे इतने मज़बूत हैं कि भारतीय टीम को हरा पाएं."

सौरव गांगुली पहले भी बांग्लादेशी क्रिकेट टीम के स्तर की आलोचना कर चुके हैं, लेकिन इस बार उनके इस भरोसे की वजह चैम्पियंस ट्रॉफ़ी का वॉर्म अप मुक़ाबला रहा होगा.

इस मुक़ाबले में भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों के विशाल अंतर से हराया है. दिनेश कार्तिक के 94 और हार्दिक पांड्या के नाबाद 80 रन की बदौलत भारत ने सात विकेट पर 324 रन बनाए. इसके जवाब में बांग्लादेशी टीम महज 80 रनों पर सिमट गई.

जब जब बांग्लादेश ने किया उलटफ़ेर

  • 31 मई, 1999, वर्ल्ड का ग्रुप मुक़ाबला- बांग्लादेश- 223/9, पाकिस्तान- 161 रन, पाकिस्तान 62 रन से हारा
  • 17 मार्च, 2007, वर्ल्ड कप का ग्रुप मुक़ाबला- भारत - 191 रन, बांग्लादेश- 192/5, भारत पांच विकेट से हारा
  • 9 मार्च, 2015, वर्ल्ड कप का ग्रुप मुक़ाबला- बांग्लादेश- 275/7, इंग्लैंड- 260, इंग्लैंड 15 रन से हारा

बांग्लादेशी क्रिकेट टीम भले काग़ज पर कमज़ोर नज़र आ रही हो, भारत के सामने वॉर्म अप मुक़ाबले में उसकी एक नहीं चली हो, लेकिन इस टीम में उलटफ़ेर करने का दमखम मौजूद है.

चैंपियन्स ट्रॉफी: विराट जीत के 5 दांव

दक्षिण अफ़्रीका को हरा सेमीफ़ाइनल में पहुंचा भारत

इसी चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में बांग्लादेशी टीम ने न्यूज़ीलैंड को विशाल रनों का पीछा करते हुए हराकर सेमी फ़ाइनल में प्रवेश किया है. बांग्लादेश की ओर से ऑलराउंडर साकिब अल हसन ने 114 रन ठोके, जबकि महमूदउल्ला ने नाबाद 102 रन बनाए.

33 साल के मशरफे मुर्तज़ा की कप्तानी में बांग्लादेशी टीम बुलंद हौसलों के साथ चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में हिस्सा लेने पहुंची है. 2015 के वर्ल्डकप के बाद बांग्लादेश ने अपने घरेलू मैदानों पर ज़ोरदार प्रदर्शन किया है, भारत को वनडे सिरीज़ में हराया, इसके बाद दक्षिण अफ्रीका को भी धोया.

पाकिस्तान का सफ़या किया, अपने मैदान पर लगातार पांच वनडे सिरीज़ जीतने का करिश्मा बांग्लादेशी टीम ने दिखाया है.

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में इसका असर साफ़ दिखा है और बांग्लादेश की टीम सेमी फ़ाइनल में पहुंचने में कामयाब रही, 31 साल से वनडे खेल रही टीम पहली बार इस मुकाम तक पहुंची है.

इससे पहले भी समय-समय पर टीम अपनी विपक्षी टीम को चौंकाती भी रही है. ख़ासकर बड़े टूर्नामेंटों में बांग्लादेशी टाइगर्स दूसरी टीमों का खेल अहम मौकों पर बिगाड़ते रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

2007 के वर्ल्ड कप को भारतीय क्रिकेट प्रेमी शायद ही भूले होंगे. जब वेस्टइंडीज़ में खेले गए वर्ल्ड कप में बांग्लादेश ने भारतीय क्रिकेट टीम का बोरिया-बिस्तर बंधवा दिया था. बांग्लादेश ने मुशफ़िकुर रहीम, साक़िब अल हसन और तमीम इक़बाल की अर्धशतक की बदौलत भारत को पांच विकेट से हराकर टूर्नामेंट से बाहर का रास्ता दिखा दिया था.

इससे पहले 1999 के वर्ल्ड कप में पाकिस्तान को बांग्लादेश ने हराकर बाहर का रास्ता दिखाया था. 2015 में पिछले ही वर्ल्ड कप बांग्लादेश ने इंग्लैंड का पैक अप करा दिया था.

2016 के वर्ल्ड टी20 कप में बांग्लादेश भारत को हराने की स्थिति में पहुंच गया था हालांकि रोमांचक मुक़ाबले में भारत एक रन से जीत हासिल करने में कामयाब रहा.

संभल कर रहना होगा

लेकिन इस बार बांग्लादेशी टीम केवल अपसेट करने के इरादे से नहीं खेल रही है, टीम में उम्मीद नज़र आ रही है. मुस्तफ़िज़ुर रहमान, सौम्या सरकार और मेहदी हसन जैसे गेंदबाज़ी टीम में मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वर्ल्ड नंबर एक ऑलराउंडर साकिब अल हसन की मौजूदगी और मुशफ़िकुर रहीम और महमूदउल्ला जैसे फ़िनिशर भरोसा दिलाते हैं कि बांग्लादेशी चुनौती इस बार आसान नहीं रहने वाली है.

यही वजह है कि विराट कोहली की टीम को बांग्लादेशी चीतों से संभल कर रहना होगा. दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ ज़ोरदार जीत से टीम का भरोसा काफ़ी बढ़ा है, लेकिन श्रीलंका से हुआ मुक़ाबला इस बात की गवाही देता है कि किसी भी पहलू में पिछड़ने पर कोई भी टीम मैच गंवा सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे