इंग्लैंड-पाक मैच: 38 फीसदी टिकटें हिंदुस्तानियों के पास

क्रिकेट फैन इमेज कॉपीरइट Getty Images

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का पहला सेमीफाइनल बुधवार को कार्डिफ़ में पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच खेला जाना है.

पाकिस्तानी टीम के सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद जहां पाकिस्तानी दर्शकों में इस मैच को लेकर बहुत उत्साह देखा जा रहा है, वहीं ग्लेमोरगन क्रिकेट क्लब के अध्यक्ष का कहना है कि इस मैच के सभी टिकट पहले ही बिक चुके हैं और एक तिहाई से अधिक खरीदार भारतीय हैं.

क्लब के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हू मॉरिस ने बताया, "जब हमें यह मैच आयोजित करवाने के लिए कहा गया तो हमें पता नहीं था कि कौन-सी टीम इसमें खेलेगी, लेकिन दो महीने पहले ही इस मैच की सभी टिकटें बुक हो गईं और उन्हें खरीदने वाले 38 फ़ीसदी लोग भारतीय हैं."

भारत की टीम भी सेमीफाइनल में पहुंची है और वो 15 जून को बर्मिंघम में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ खेलेगी.

भारत का क्रिकेट कोच चुनने के लिए मांगे पैसे

'जानलेवा बीमारी का इलाज सिरदर्द की गोली से'

इमेज कॉपीरइट Reuters

टिकट बेचने की अपील

हू मॉरिस ने भारतीय प्रशंसकों से अनुरोध किया है कि अगर वो मैच देखने कार्डिफ़ के मैदान में नहीं आ सकते तो वो आईसीसी की वेबसाइट पर इन टिकटों को उनकी मूल कीमत पर फिर से बेच दें ताकि इंग्लैंड और पाकिस्तान के प्रशंसक टिकटें खरीद सकें.

उन्होंने कहा, "इंग्लैंड और पाकिस्तान के समर्थकों के लिए आईसीसी की वेबसाइट से टिकट खरीदने का यह अच्छा मौका है."

दूसरी ओर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने आलोचना की है कि टूर्नामेंट के दौरान केवल कार्डिफ़ ही था जहां सीटें खाली थीं.

#IndVsPak: 5 मौके जब फैन्स की धड़कनें रुक गईं

महिला क्रिकेट टीम का अगला मिशन वर्ल्ड कप

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ख़राब मौसम

उनका कहना है, "जब मैं देखता हूँ कि एक मैदान में केवल 14000 सीटें हैं और वह भी ना भरें तो यह क्रिकेट के लिए सही नहीं है कि आप एक बड़े टूर्नामेंट में भी दर्शकों की रुचि पैदा नहीं कर सकते. मैं जानना चाहता हूँ कि ऐसा क्यों है."

अपने आख़िरी लीग मैच में पाकिस्तान ने बेहद रोमांचक तरीके से श्रीलंका को तीन विकेट से हराकर टूर्नामेंट से बाहर कर दिया है. उसे देखने 10,800 लोग मैदान में मौजूद थे.

हू मॉरिस ने इसका बचाव करते हुए कहा कि कार्डिफ़ में होने वाले चार में से दो मैच पूरी तरह बिक चुके थे, लेकिन हमें यह पता करना है कि टिकट खरीदने के बावजूद लोग मैच देखने क्यों नहीं आए.

उनका मानना था कि "हो सकता है कि ख़राब मौसम की वजह से लोगों ने न आने का फ़ैसला किया हो."

पाकिस्तान चैंपियंस ट्रॉफ़ी के सेमीफ़ाइनल में

'ऐसे ही तो रेस में शामिल नहीं हुए सहवाग'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कितनी मज़बूत है पाक टीम

लंदन में मौजूद बीबीसी उर्दू के संवाददाता ख़ालिद करामात कहते हैं, "इंग्लैंड के मुकाबले पाकिस्तान की टीम कमज़ोर नज़र आती है और इस टूर्मामेंट में उन्हें कुछ ख़ास कामयाबी भी हासिल नहीं हुई."

उनका कहना है कि बीते कुछ मैचों में पाकिस्तान की बैंटिंग लाइन उन्हें निराश करती आई है और पाकिस्तान के लिए ज़रूरी होगा कि वो अपनी बैटिंग लाइन पर ध्यान दें.

ख़ालिद कहते हैं, "भारत के ख़िलाफ़ मैच हारने के बाद पाक टीम का मनोबल गिर गया था. यहां तक कि टीम के कप्तान सरफ़राज़ अहमद प्रेस कॉन्फ्रेंस में नहीं आए और उनके जगह कोच मिकी आर्थर आए, जबकि भारत की ओर से कप्तान कोहली पहुंचे थे."

हालांकि उनका मानना है कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ़ अच्छी बॉलिंग करने के बाद टीम का मनोबल काफ़ी बढ़ा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ख़ालिद कहते हैं, "बैंटिंग में टीम मज़बूती ना दिखा पाई तो इंग्लैंड के ख़़िलाफ़ मुकाबला मुश्किल होगा."

वो बताते हैं, "पाकिस्तान की टीम के बारे में पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता. हाल में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सिरीज़ वो हर गए थे, लेकिन इसका आख़िरी मैच जो कार्डिफ़ में हुआ था उसमें उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था और टार्गेट का पीछा करते हुए पाकिस्तान के पहली बार किसी गैर-एशियाई देश के ख़िलाफ़ 300 से ज़्यादा रन बनाए."

ख़ालिद कहते हैं, "पाकिस्तान की स्ट्रेंथ है गेंदबाज़ी, वो शायद इसी के ज़रिए अच्छे टोटल का मुकाबला कर सके."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)