25 साल बाद पाकिस्तान से हिसाब बराबर कर पाएगा इंग्लैंड

  • 14 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी के पहले सेमीफ़ाइनल में बुधवार को मेज़बान इंग्लैंड का मुक़ाबला पाकिस्तान से होने वाला है.

इस मुक़ाबले में एक ओर इंग्लैंड की टीम है जो चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में अब तक अजेय रही है, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान की टीम है जिसे एकदम अविश्वसनीय टीम माना जा रहा है.

इंग्लैंड को टूर्नामेंट की शुरुआत से फ़ेवरिट माना जा रहा है. टीम अपने तीनों ग्रुप मैच जीतकर सेमीफ़ाइनल में पहुंची है. बांग्लादेश और न्यूज़ीलैंड को प्रभावी अंदाज़ में हराने के बाद इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को भी हराया है.

भारत-पाकिस्तान फ़ाइनल में टकराए तो

38 फीसदी टिकटें हिंदुस्तानियों के पास

वहीं पाकिस्तान की टीम भारत के हाथों हारने के अलावा श्रीलंका के ख़िलाफ़ भी एक समय हार की कगार पर नज़र आ रही थी, लेकिन पाकिस्तानी कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने बेहतरीन और ज़िम्मेदारी वाली पारी खेल कर टीम को सेमी फ़ाइनल में पहुंचाया.

25 साल पहले का वो फ़ाइनल

ऐसे में दोनों टीमों के बीच एक ज़ोरदार मुक़ाबले की उम्मीद की जा रही है और ख़ास बात ये है कि पाकिस्तान और इंग्लैंड की टीमें 25 साल बाद किसी टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड में भिड़ रही हैं.

इससे पहले दोनों टीमें नॉकआउट राउंड में 1992 के वर्ल्ड कप के फ़ाइनल में टक्कर हुई थी. 25 मार्च, 1992 को एडिलेड में खेले गए मुक़ाबले में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 50 ओवर में छह विकेट पर 249 रन बनाए. इमरान ख़ान ने कप्तानी पारी खेलते हुए सबसे ज़्यादा 72 रन बनाए थे.

इमेज कॉपीरइट Allsport

इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम 50वें ओवर में 227 रनों पर सिमट गई थी. नील फ़ेयरब्रदर ने 62 रन ज़रूर बनाए, लेकिन उनकी टीम पिछड़ गई.

पाकिस्तान ने 22 रनों की जीत के साथ वर्ल्ड कप जीतकर अपने कप्तान इमरान ख़ान को शानदार विदाई दी थी. हालांकि इस टूर्नामेंट के ग्रुप मुक़ाबले में इंग्लैंड ने पाकिस्तान को महज 74 रनों पर समेट दिया था, बारिश के चलते इस मुक़ाबले को रद्द करना पड़ा था नहीं तो पाकिस्तान का टूर्नामेंट से बोरिया बिस्तर बंध जाता.

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या इंग्लैंड 25 साल पहले मिली हार का बदला अपने घेरलू मैदान पर ले पाएगा?

किसका दावा कितना मज़बूत

जो रूट, ईऑन मॉर्गन और एलेक्स हेल्स जैसे बल्लेबाज़ ज़ोरदार फॉर्म में नज़र आ रहे हैं. वहीं गेंदबाज़ी में लियम प्लंकेट और आदिल राशिद का प्रदर्शन शानदार रहा है. बेन स्टोक्स जैसा ऑलराउंडर भी टीम में मौजूद है. टीम प्रबंधन सेमीफ़ाइनल मुक़ाबले के लिए सलामी बल्लेबाज़ जेसन रॉय की जगह जॉनी बैरिस्टो को सलामी बल्लेबाज़ के तौर आजमा सकता है.

इंग्लिश टीम को अपने घरेलू मैदान पर खेलने का लाभ भी मिलेगा. इतना ही नहीं, पिछले 14 वनडे मुक़ाबलों में 12 बार इंग्लैंड ने पाकिस्तान को हराया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बावजूद इन सबके इंग्लैंड की टीम पाकिस्तान की चुनौती को हल्के में नहीं ले सकती. क्योंकि पाकिस्तानी टीम में उलटफ़ेर करने वाले सितारे भरे हुए हैं. कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ जिस तरह टीम को जीत दिलाई, उससे टीम का मनोबल भी बढ़ा हुआ है. टीम में अज़हर अली, बाबर आज़म, मोहम्मद आमिर और ज़ुनैद ख़ान जैसे नेचुरल टैलेंट वाले खिलाड़ी मौजूद हैं.

ऐसे में मैच के दौरान सबकी नज़रें इस बात पर टिकी होंगी कि 25 साल बाद इंग्लैंड वर्ल्ड कप फ़ाइनल की हार का हिसाब चुकता कर पाएगा या फिर पाकिस्तानी टीम एक बार फिर उलटफ़ेर कर दिखाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे