जब भारत-पाकिस्तान मैचों में तल्ख़ हुआ माहौल

  • 18 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट का मुक़ाबला हो तो फ़ैन्स का उत्साह भी आसमान छूने लगता है.

वजह ये है कि इस मैच में आपको क्रिकेट का टैलेंट तो नज़र आता ही है, साथ ही दोनों टीमों के बीच एक ख़ास तरह की तल्ख़ी भी दिखती है.

10 साल बाद फ़ाइनल में भिड़ेंगे भारत-पाकिस्तान

चैंपियंस ट्रॉफ़ी: भारत और पाकिस्तान अगर फ़ाइनल में टकराए तो...

इन दिनों भले ही क्रिकेट की ये दुश्मनी कम दिखे लेकिन खेलते वक़्त दोनों टीम के खिलाड़ी एक अतिरिक्त दबाव में रहते हैं.

और ये तनाव जब चरम पर पहुंचता है तो बात आपा खोने तक आ पहुंचती है. अतीत में ऐसा कई बार हो चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फ़ाइनल में भारत-पाकिस्तान एक बार फिर रविवार को आमने-सामने हैं.

दोनों देशों के खिलाड़ियों के बीच क्रिकेट के मैदान में ख़ूब तकरारें हुईं और उनका जवाब कई दफ़ा बल्ले या गेंद से दिया गया है और कुछ मौक़ों पर बात क्रिकेट से आगे निकल गई.

#IndVsPak: 5 मौके जब फैन्स की धड़कनें रुक गईं

'यही असल में फ़ाइनल, बाकी सब बेकार'

1. चेतन शर्मा-जावेद मियांदाद

शारजाह, 1986

यह एक ऐसा मैच था जिसे शायद दोनों देशों के क्रिकेट फैन्स कभी नहीं भुला पाएंगे. ऑस्ट्रेलिया कप के फ़ाइनल मुक़ाबले में भारत-पाकिस्तान आमने-सामने थे.

आख़िरी ओवर की आख़िरी गेंद पर पाकिस्तान को जीतने के लिए चार रनों की ज़रूरत थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शोएब अख़्तर एक मैच के दौरान

भारत के चेतन शर्मा ने गेंद फेंकी और सामने क्रीज़ पर खड़े पाकिस्तानी बल्लेबाज जावेद मियांदाद ने उसे बाउंड्री के पार भेज दिया.

मैच के बाद मियांदाद हीरो बन गए और चेतन शर्मा विलेन. शर्मा को भारत वापसी पर काफी आलोना भी झेलनी पड़ी.

जब इंडियन ड्रेसिंग रूम में नाचा पाकिस्तानी गेंदबाज़

2. किरन मोरे-जावेद मियांदाद

सिडनी, 1992

पाकिस्तानी बल्लेबाज जावेद मियांदाद और आमिर सोहेल काफी बढ़िया बल्लेबाज़ी कर रहे थे.

तभी भारतीय विकेटकीपर किरन मोरे ने पीछे से कुछ बोलना शुरू किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तानी बल्लेबाज़ जावेद मियांदाद भारत के ख़िलाफ़ बैटिंग करते हुए

वो बीच-बीच में अपील कर रहे थे तो कूद भी रहे थे. मोरे की ये हरकत मियांदाद को नागवार गुज़री और वो उन्हें चिढ़ाने के लिए उछल पड़े.

भारतीय क्रिकेटरों के दीवाने बने 'पाकिस्तानी चचा'

इस पर एक तरफ जहां मोरे और दूसरे लोगों की हंसी छूटी वहीं मियांदाद की ये हरकत हमेशा के लिए यादों में क़ैद हो गई.

इसके बाद भी दोनों खिलाड़िय़ों के बीच कुछ तक़रार हुई, जिसके बाद अंपायर ने बीच-बचाव किया.

सहवाग क्यों बोले मैंने नहीं बनाए दो तिहरे शतक

3. वेंकटेश प्रसाद-आमिर सोहेल

बैंगलुरू, 1996

इस मैच में वर्ल्ड कप के क्वार्टर फ़ाइनल मुक़ाबले में भारत ने पहले बैटिंग करते हुए पाकिस्तान के खिलाफ 287 रन बनाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान ने तेज़ शुरुआत की और उनकी तरफ़ से आमिर सोहेल ज़बरदस्त पारी खेल रहे थे. तभी मैच में वो मोड़ आया जिसने नतीजा उलट दिया.

इस मौक़े पर भारत के तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद और पाकिस्तान के आमिर सोहेल के बीच तक़रार शुरू हुई.

लगातार दो बाउंड्री लगाने के बाद सोहेल ने वेंकटेश की ओर इशारा किया जैसे ये कह रहे हों कि अगली गेंद भी सीमा पार पहुंचाएंगे.

लेकिन अगली ही गेंद पर वेंकटेश ने सोहेल को क्लीन बोल्ड किया और पवेलियन की तरफ़ जाने का इशारा किया.

'गिब्स तुमने कैच नहीं कप गिराया है..'

4. सचिन, सहवाग-शोएब अख़्तर

सेंचुरियन, 2003

साल 2003 के आईसीसी वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ भारत ने लक्ष्य का पीछा करते हुए बेहद आक्रामक बल्लेबाज़ी की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शोएब अख़्तर

इस मैच में सचिन तेंदुलकर ने 75 गेंदों पर 98 रन की शानदार पारी खेली थी.

पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख्तर ने सचिन की परफॉर्मेंस पर असर डालने के लिए लगातार स्लेजिंग की.

भारत बनाम पाकिस्तान: दीवानगी जो जुनून में बदल जाती है

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption साल 2011 वर्ल्ड कप में भारतीय खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर को बधाई देते हुए शाहिद आफ़रीदी

इस मौक़े पर उनके सामने वीरेंद्र सहवाग खड़े थे जिन्होंने अख़्तर को जवाब देना शुरू किया.

लेकिन दूसरे छोर पर बल्लेबाज़ी कर रहे सचिन तेंदुलकर अपने बल्ले से बोलते रहे.

शोएब की तेज़ रफ़्तार गेंद आती और सचिन के बल्ले से टकराकर स्टैंड में पहुंच जाती.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)