दमदार भारत और छुपे रुस्तम पाकिस्तान के बीच महा मुक़ाबला

  • 18 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तानी कप्तान सरफ़राज़ और भारतीय कप्तान विराट कोहली

दुनिया के किसी भी कोने में अगर किसी क्रिकेट टूर्नामेंट का फ़ाइनल भारत और पाकिस्तान के बीच खेला जाए, क्रिकेट के चाहने वालों को इससे अधिक और क्या चाहिए?

और फिर भारत और पाकिस्तान एक ही टूर्नामेंट में दो बार टकराएँ, यह तो सोने पर सुहागे जैसा है.

10 साल बाद फ़ाइनल में भिड़ेंगे भारत-पाकिस्तान

'...बस दिन अच्छा हो, ट्रॉफी भारत ही जीतेगा'

करिश्माई कोहली को कैसा आंकते हैं डिविलियर्स?

अब रविवार को यही दोनों टीमें आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफ़ी के फ़ाइनल में टकराने जा रही हैं.

पिछले चैंपियन भारत ने ग्रुप मैच में श्रीलंका के हाथों सात विकेट से हारने के बाद दमदार खेल दिखाते हुए फ़ाइनल में जगह बनाई है.

वहीं पाकिस्तानी टीम तो इस चैंपियंस ट्रॉफ़ी में छुपा रुस्तम साबित हुई.

भारत तो चैंपियन के रूप में पहले से ही दावेदार था लेकिन शायद ही किसी ने सोचा था कि नए कप्तान के साथ पाकिस्तान फाइनल में पहुंचेगा.

भारत के हाथों पहले ही मैच में डकवर्थ-लूइस नियम के आधार पर 124 रनों से करारी मात के बाद पाकिस्तान ने ज़बरदस्त वापसी की है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान की दमदार वापसी

पाकिस्तान ने अगले ही मैच मे डकवर्थ-लूइस नियम के आधार पर दक्षिण अफ़्रीका को 19 रन से और उसके बाद श्रीलंका को तीन विकेट से हराकर अपना खोया आत्मविश्वास हासिल किया.

जब भारत-पाकिस्तान मैचों में तल्ख़ हुआ माहौल

'अपनी योजना से खेले तो फ़ाइनल का नतीजा अलग होगा'

फ़ाइनल से पहले पाकिस्तान में कप्तान पर विवाद

सेमीफ़ाइनल में तो इंग्लैंड कहीं भी पाकिस्तान के सामने नहीं थी. उसे 211 रनों पर समेटने के बाद पाकिस्तान आसानी से आठ विकेट से जीता.

दूसरी तरफ भारत ने भी सेमीफाइनल में बांग्लादेश को नौ विकेट से हराया.

ग्रुप मैच में भारत श्रीलंका से सात विकेट से हारा.

फ़ाइनल तक के सफर में भारत की सलामी जोड़ी शिखर धवन और रोहित शर्मा जमकर चमकी है.

इमेज कॉपीरइट AFP/getty images

भारत की सलामी जोड़ी का कमाल

शिखर ने पाकिस्तान के ख़िलाफ 68, श्रीलंका के ख़िलाफ 125, दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ 78 और सेमीफ़ाइनल में बांग्लादेश के ख़िलाफ 46 रन बनाए.

'एक मुहाजिर का कप्तान बनना कुछ पाकिस्तानी पचा नहीं पा रहे'

भारत बनाम पाकिस्तान: दिल थामने वाले मुक़ाबले

आंकड़ों में भारी लेकिन पाकिस्तान को हल्के में न ले भारत

रोहित शर्मा ने भी पाकिस्तान के ख़िलाफ 91, श्रीलंका के ख़िलाफ 78 और सेमीफ़ाइनल में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ नाबाद 123 रनों की शतकीय पारी खेली.

कप्तान विराट कोहली ने भी सेमीफ़ाइनल में बांग्लादेश के ख़िलाफ नाबाद 96 रन बनाए.

दरअसल वह केवल श्रीलंका के ख़िलाफ़ बिना खाता खोले आउट हुए वर्ना दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ उन्होंने नाबाद 76 और पाकिस्तान के ख़िलाफ भी नाबाद 81 रन बनाए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सरफ़राज़ की बेहतरीन कप्तानी

युवराज सिंह ने भी पाकिस्तान के ख़िलाफ 53 और महेंद्र सिंह धोनी ने श्रीलंका के ख़िलाफ 63 रन बनाकर अपना दमख़म दिखाया.

अगर यह कहा जाए कि चैंपियंस ट्रॉफी में भारतीय बल्लेबाज़ी की असली परीक्षा हुई ही नहीं है तो ग़लत नहीं होगा.

रही बात पाकिस्तान की तो उसके कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ नाबाद 61 रन की पारी खेलकर लगभग हारा हुआ मैच जीत में बदला. और इसी जीत से पाकिस्तान के सितारे बदले.

भारत के ख़िलाफ उनके गेंदबाज़ बेहद साधारण नज़र आए लेकिन बाकी टीमों के बल्लेबाज़ उनका सामना नहीं कर सके. कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने भी गेंदबाज़ों का इस्तेमाल बखूबी किया.

इमेज कॉपीरइट Icc
Image caption टीम पाकिस्तान

गेंदबाज़ी पाकिस्तान की ताक़त

सलामी बल्लेबाज़ फख्र ज़मॉ भी अभी तक इंग्लैंड के ख़िलाफ 57, श्रीलंका के ख़िलाफ 50 और दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ 31 रन की ज़ोरदार पारी खेल चुके हैं.

उनके जोड़ीदार अज़हर अली भी सेमीफाइनल में इंग्लैंड के ख़िलाफ 76 रन ठोक चुके हैं.

बाबर आज़म ने भी छोटी-छोटी मगर उपयोगी पारी खेली है, लेकिन बेहद अनुभवी शोएब मलिक का बल्ला चुप है.

ऐसे में पाकिस्तान के सबसे अधिक उम्मीद अपने गेंदबाज़ों से ही होंगी.

तेज़ गेंदबाज़ जोड़ी जुनैद ख़ान और रुम्मान रईस के साथ हसन अली की तिकड़ी कुछ कमाल कर सकती है.

इमेज कॉपीरइट AFP/getty
Image caption भारतीय गेंदबाज़ केदार जाधव

भारत का दावा मज़बूत

भारतीय गेंदबाज़ों ने भी निराश नहीं किया है.

भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, आर अश्विन और रविंद्र जडेजा ने हर महत्वपूर्ण अवसर पर विकेट लेकर अपनी उपयोगिता साबित की है.

वहीं केदार जाधव ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ दो विकेट झटक कर मैच का रुख भारत की ओर तब पलटा, जब बाकी गेंदबाज़ बेअसर साबित हो रहे थे.

भारत के कप्तान विराट कोहली पहले ही कह चुके हैं कि टीम में शायद ही कोई परिवर्तन हो.

मैच के परिणाम को लेकर भी वह दबाव महसूस नहीं करते. वो साफ कर चुके हैं कि उनका ध्यान सिर्फ खेल पर है.

रिकार्ड के पन्नों में दोनो टीमें अभी तक 10 एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय फ़ाइनल खेल चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत हैट्रिक लगाने उतरेगा

इनमें से सात पाकिस्तान ने और तीन भारत ने जीते हैं.

पिछले पांच एकदिवसीय मैचों में भारत चार बार और पाकिस्तान एक बार जीता है. चैंपियंस ट्रॉफी के इतिहास में भारत और पाकिस्तान पहली भार फ़ाइनल में भिड़ने जा रहे हैं.

दोनो टीमों ने चैंपियंस ट्रॉफी में दो-दो मुक़ाबले जीते हैं.

भारत तीसरी बार चैंपियन बनने उतरेगा, जबकि पहली बार फ़ाइनल खेलने जा रहे पाकिस्तान के पास खोने के लिए कुछ नहीं है लेकिन अगर जीते तो बहुत कुछ हासिल होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे