'एक मुहाजिर का कप्तान बनना कुछ पाकिस्तानी पचा नहीं पा रहे'

  • 18 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

चैंपियंस ट्रॉफ़ी में रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच हो रहे मैच का रोमांच अपने चरम पर है और दोनों ही देशों के लोग अपनी-अपनी टीमों की जीत की दुआ कर रहे हैं.

लेकिन पाकिस्तानी टीम के कप्तान सरफ़राज़ के कुछ रिश्तेदार भारत की जीत की दुआ कर रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के इटावा में रह रहे सरफ़राज़ अहमद के मामू महबूब हसन कहते हैं कि उनकी दुआएं सरफ़राज के साथ ज़रूर हैं लेकिन जीत वो अपने देश की ही देखना चाहते हैं.

फ़ाइनल से पहले पाकिस्तान में कप्तान पर विवाद

'फ़ाइनल में या तो गदर होगा या लगान'

इमेज कॉपीरइट Mehboob hasan

मूल रूप से प्रतापगढ़ ज़िले में कुंडा के रहने वाले महबूब हसन इटावा कृषि इंजीनियरिंग कॉलेज में हेड क्लर्क के पद पर काम करते हैं.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा कि भारत की जीत इसलिए भी सुनिश्चित-सी लग रही है क्योंकि इस समय टीम बेहद संतुलित है और सभी खिलाड़ी बहुत अच्छा खेल रहे हैं.

10 साल बाद फ़ाइनल में भिड़ेंगे भारत-पाकिस्तान

भारत-पाक वनडे: कहाँ और कैसे चूका पाकिस्तान?

चार जून के लीग मैच में भारत ने पाकिस्तान को बुरी तरह हराया था.

इस हार के बाद पाकिस्तानी टीम के खिलाड़ियों, ख़ासकर कप्तान सरफ़राज़ अहमद पर पाकिस्तानी सोशल मीडिया में कई तरह के आरोप लगाए गए. यहां तक कि कई पूर्व खिलाड़ियों ने भी सरफ़राज़ की भूमिका पर सवाल खड़े किए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

महबूब हसन कहते हैं कि पाकिस्तान में सरफ़राज़ का टीम का कप्तान बनना वहां के कई लोगों को पच नहीं रहा है, भले ही वो अपनी योग्यता से कप्तान बने हैं.

वो कहते हैं, "पाकिस्तान में मुहाजिरों की हालत किसी से छिपी नहीं है. कई पूर्व खिलाड़ी इस बात को हज़म नहीं कर पा रहे हैं कि एक मुहाजिर कैसे कप्तान बन गया? इसीलिए कुछ लोग अनाप-शनाप आरोप लगा रहे हैं."

भारत बनाम पाकिस्तान: दीवानगी जो जुनून में बदल जाती है

'गली गली तेरी लौ जली, जियो रे विराट कोहली'

महबूब हसन बताते हैं कि वो ख़ुद भी कराची गए हैं और इन चीजों को उन्होंने महसूस किया है.

उनका आरोप है- "इस बात को वहां के मुहाजिर लोग भी जानते हैं लेकिन वो कुछ कर नहीं सकते. पाकिस्तान में उन्हें दोयम दर्जे का नागरिक समझा जाता है."

हालांकि ये तथ्य है कि पाकिस्तान में मुहाजिर समुदाय के लोग कई अहम पदों पर रह चुके हैं और फौज के जनरल तक बन चुके हैं, जैसे जनरल परवेज़ मुशर्रफ़.

इमेज कॉपीरइट Mehboob hasan

महबूब हसन बताते हैं कि सरफ़राज़ और उनके माता-पिता यहां आते रहते हैं और वो लोग भी पाकिस्तान जाते हैं.

हसन बताते हैं कि सरफ़राज़ से उनकी आख़िरी मुलाकात साल 2015 में उस समय हुई थी जब वो सरफराज की शादी में पाकिस्तान गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे