विंबलडन और नडाल: उठा-पटक का दौर जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters

स्पेन के रफ़ाएल नडाल का तीसरी बार विंबलडन जीतने का सपना टूट गया है. प्री-क्वार्टर फ़ाइनल मैच में उन्हें लक्ज़मबर्ग के गाइल्स मुलर ने पाँच सेटों के रोमांचक मैच में 6-3, 6-4, 3-6, 4-6 और 15-13 से मात दे दी.

15 बार के ग्रैंड स्लैम चैम्पियन नडाल पहला दो सेट हारकर पिछड़ रहे थे. लेकिन अगले दो सेट जीतकर उन्होंने मैच में वापसी की. इस हार के साथ ही तीन बार लगातार फ़्रेंच ओपन और विंबलडन जीतने का उनका सपना अधूरा रह गया.

नडाल को हरा फ़ेडरर बने चैंपियन

फेडरर ने 5 साल बाद चूमी ग्रैंड स्लैम ट्रॉफी

फ्रेंच ओपन: रफ़ाएल नडाल का परफेक्ट 10

डेविस कप: नडाल ने दिल और मैच दोनों जीते

क्वार्टर फ़ाइनल में अब मुलर का मुक़ाबला मारिन चिलिच से होगा. नडाल और मुलर के बीच का मैच इस साल के विंबलडन का अब तक का सबसे रोचक मैच माना जा रहा है.

दावेदार

इमेज कॉपीरइट AFP

इस साल ज़बरदस्त फ़ॉर्म में चल रहे नडाल को विंबलडन जीतने का प्रबल दावेदार माना जा रहा था.

इस साल नडाल ऑस्ट्रेलियन ओपन के फ़ाइनल में पहुँचे थे, जहाँ रोजर फ़ेडरर ने उन्हें हरा दिया था. जबकि फ़्रेंच ओपन में उन्होंने ख़िताब जीता था.

नडाल का करियर चोट के कारण भी लंबे समय तक प्रभावित रहा है. एक समय तो वे 10वीं रैंकिंग तक पहुँच गए थे. तीन साल तक वे किसी ग्रैंड स्लैम के फ़ाइनल में नहीं पहुँचे. लेकिन इस साल जनवरी में उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन के फ़ाइनल में जगह बनाई.

लेकिन विंबलडन के साथ उनका अजीब रिश्ता रहा है. वर्ष 2011 के फ़ाइनल में हार के बाद ऐसा पहला मौक़ा है, जब वे विंबलडन के क्वार्टर फ़ाइनल में भी नहीं पहुँच पाए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे