बोल्ट को आखिरी रेस में नहीं मिल सकी गोल्डन विदाई

बोल्ट

दुनिया के महानतम एथलीटों में शुमार जमैका के फर्राटा धावक यूसेन बोल्ट ट्रैक से सुनहरी विदाई नहीं ले पाए. बोल्ट जमैका की 4 गुणा 100 मीटर की टीम में शामिल थे.

बोल्ट को आखिरी चक्कर में दौड़ लगानी थी. उनकी टीम के 3 धावकों ने अपना लैप पूरा किया, लेकिन आख़िरी लैप में बोल्ट कुछ दूर दौड़ने के बाद घायल हो गए और मैदान पर गिर गए. बोल्ट अपनी दौड़ पूरी नहीं कर पाए और उनकी गोल्डन बिदाई नहीं हो सकी. इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक मेजबान ब्रिटेन की टीम को मिला.

30 वर्षीय बोल्ट ने जब बैटन थामी तो उनके आगे दो प्रतिस्पर्धी थे. बोल्ट ने उनसे आगे निकलने के लिए ज़ोर लगाया, लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाए. थोड़ी दूर दौड़ने के बाद वह लड़खड़ाने लगे और फिर ज़मीन पर गिर गए.

उनके लिए व्हीलचेयर लाई गई लेकिन उन्होंने इस पर बैठने से इनकार कर दिया. दुनिया के सर्वकालिक सबसे तेज़ इनसान ने अपनी टीम के साथियों के कंधे का सहारा लेकर आखिरी 30 मीटर लड़खड़ाते हुए पूरे किए.

वैसे तो चीता दुनिया में सबसे तेज़ दौड़ने वाला जीव कहा जाता है. और चीते के बाद नाम आता है यूसेन बोल्ट का. बोल्ट की रफ़्तार भी बिजली जैसी ही है. वो दुनिया के सबसे महान धावक कहे जाते हैं.

उन्होंने एथलेटिक्स की दुनिया में कामयाबी के इतने झंडे बुलंद किए हैं कि उन्हें दुनिया का सबसे महान धावक कहना ग़लत नहीं होगा.

यूसेन बोल्ट का एक ओलंपिक गोल्ड मेडल छिना

तो चलिए इस मौक़े पर नज़र डालते हैं उन उपलब्धियों पर जो यूसेन बोल्ट ने हासिल कीं.

1. यूसेन बोल्ट दुनिया के सबसे तेज़ दौड़ने वाले शख़्स हैं. उन्होंने तीन बार 100 मीटर की दौड़ का विश्व रिकॉर्ड तोड़ा है. पहली बार उन्होंने ऐसा 9 साल पहले किया था.

मई 2008 में यूसेन बोल्ट ने अपने ही देश के एथलीट असाफ़ा पॉवेल के 9.74 सेकेंड में 100 मीटर की दौड़ पूरी करने के रिकॉर्ड को 9.72 सेकेंड में पूरा करके तोड़ा था. उसी साल बीजिंग ओलंपिक में बोल्ट ने इससे भी कम वक़्त यानी 9.69 सेकंड में दौड़ पूरी करने का कीर्तिमान बनाया.

2009 में बर्लिन में हुई विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में उन्होंने केवल 9.58 सेकेंड में ये दौड़ पूरी कर ली.

1912 में अमरीकी खिलाड़ी डोनल्ड लिपिनकॉट ने 10.6 सेकेंड में 100 मीटर की दौड़ पूरी की हुई थी. स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में हुए इस मुक़ाबले में पहली बार इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ़ एथलेटिक्स फेडरेशन्स (IAAF) ने दौड़ का रिकॉर्ड रखना शुरू किया था.

पहली बार जिम हाइन्स नाम के एथलीट ने 1968 में आधिकारिक रूप से 10 सेकंड के भीतर 100 मीटर की दौड़ पूरी की थी. इस रिकॉर्ड को एक सेकंड घटाने में आधी सदी से ज़्यादा वक़्त लग गया. ये कामयाबी यूसेन बोल्ट ने हासिल की.

2. यूसेन बोल्ट बार-बार तेज़ दौड़ते रहे हैं. यानी वो जब भी ट्रैक पर उतरे कमाल ही किया. लंदन चैंपियनशिप से पहले IAAF ने 10 सेकेंड से कम वक़्त में 100 मीटर की दौड़ पूरी करने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी की थी. इसमें यूसेन बोल्ट के मुक़ाबले गिने-चुने खिलाड़ियों के ही नाम थे.

1968 में जिम हाइन्स के बाद से 124 खिलाड़ियों ने 100 मीटर की दौड़ 10 सेकेंड से कम वक़्त में पूरी की है.

मगर यूसेन बोल्ट के अलावा गिने-चुने खिलाड़ी ही ऐसे हुए हैं, जिन्होंने ये दौड़ 9.78 सेकंड या इससे कम टाइम में पूरी की.

इनमें जमैका के ही योहान ब्लेक और असाफ़ा पॉवेल हैं. तो अमरीका के जस्टिन गैटलिन और टायसन गे हैं.

ख़ुद यूसेन बोल्ट 9 बार 9.78 सेकेंड से कम वक़्त में दौड़ पूरे करने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं.

3. यूसेन बोल्ट सिर्फ़ 100 मीटर की दौड़ के उस्ताद नहीं हैं. वो 200 मीटर की दौड़ में भी कई बार अव्वल रहे हैं. आज की तारीख़ में 100 मीटर और 200 मीटर के वर्ल्ड रिकॉर्ड यूसेन बोल्ट के ही नाम हैं.

IAAF ने जब से, यानी 1977 से दोनों दौड़ों के आंकड़े रखने शुरू किए हैं, तब से 100 मीटर और 200 मीटर की दौड़ का विश्व रिकॉर्ड किसी एक शख़्स के ही नाम रहा है तो वो हैं यूसेन बोल्ट.

2008 में बीजिंग ओलंपिक में बोल्ट ने अमरीकी धावक माइकल जॉनसन के 200 मीटर की दौड़ के 12 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ा था. उन्होंने जॉनसन के 19.32 सेकेंड के मुक़ाबले ये दौड़ 19.30 सेकेंड में पूरी की थी. अगले साल बर्लिन में विश्व चैंपियनशिप में बोल्ट ने 200 मीटर की दौड़ 19.19 सेकेंड में पूरी करके नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था.

4. यूसेन बोल्ट की सबसे बड़ी ख़ूबी रही है कि वो हमेशा ही तेज़ दौड़ते रहे हैं. दूसरे धावकों के मुक़ाबले बोल्ट लगातार अच्छा दौड़ते आए हैं. इस साल की लंदन की चैंपियनशिप को छोड़ दें तो 2008 से लेकर अब तक बोल्ट ने जितने मुक़ाबलों में हिस्सा लिया है, सब में जीत हासिल की है.

2016 के रियो ओलंपिक में उन्होंने तीन गोल्ड मेडल जीते थे. 100 मीटर, 200 मीटर और 4 गुणा 100 मीटर की रिले रेस. बोल्ट ने लगातार तीसरे ओलंपिक खेलों में तीनों मुक़ाबलों में गोल्ड मेडल हासिल करके 'ट्रिपल ट्रिपल' यानी तीन गोल्ड मेडल जीतने की तिकड़ी लगाई थी. ख़ुद बोल्ट ने कहा था कि इस कामयाबी ने उन्हें अमर बना दिया.

हालांकि 2008 का रिले रेस का मेडल बोल्ट से छिन गया. क्योंकि उनके एक साथी नेस्टा कार्टर ड्रग टेस्ट में नाकाम रहे थे. इसका खामियाज़ा पूरी टीम को उठाना पड़ा. कार्टर ने इसके ख़िलाफ़ अपील दायर कर रखी है.

वहीं तमाम वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी उन्होंने स्वर्णिम दौड़ लगाई है. सिर्फ़ इसी बार वो 100 मीटर की दौड़ में हार गए. आख़िरी 100 मीटर की दौड़ में बोल्ट को सिर्फ़ कांस्य पदक मिल सका. इसके अलावा 2011 में दक्षिण कोरिया में ग़लत शुरुआत की वजह से वो मुक़ाबले से बाहर हो गए थे.

5. 2008 के बाद से यूसेन बोल्ट 200 मीटर की दौड़ में सिर्फ़ एक दौड़ में हारे हैं. बोल्ट को 2012 में उनके ही देश के योहान ब्लेक ने हराया था. ब्लेक ने जमैका में नेशनल चैंपियनशिप में बोल्ट को 200 मीटर की दौड़ में मात दी थी.

इस चैंपियनशिप में ब्लेक ने 100 मीटर का मुक़ाबला भी जीता था. अपने पूरे करियर में बोल्ट सिर्फ़ पांच बार 100 मीटर की रेस में किसी से पिछड़े. जमैका की रेस उनमें से एक थी.

ब्लेक के अलावा जस्टिन गैटलिन, क्रिश्चियन कोलमैन, असाफ़ा पॉवेल और टायसन गे ने भी बोल्ट को अलग अलग-मुक़ाबलों में मात दी.

6. यूसेन बोल्ट की दौड़ के रिकॉर्ड पर नज़र डालें तो वो हमारी आपकी सोच से भी तेज़ दौड़ते हैं. एक बार 100 मीटर की दौड़ में उन्होंने पहले 10 मीटर एक सेकेंड से भी कम वक़्त यानी 0.81 सेकेंड में पूरे कर लिए थे. इस हिसाब से उनकी रफ़्तार छलांग लगाते घोड़े के बराबर यानी क़रीब 44 किलोमीटर प्रति घंटे थी.

100 मीटर की रेस का रिकॉर्ड भले ही 9.58 सेकेंड का हो, मगर बोल्ट ने 100 मीटर की दूरी इससे कम वक़्त में पूरी की है. वो भी एक बार नहीं कई बार. हालांकि ये कामयाबी उन्हें 200 मीटर की रेस या 4 गुणा 100 मीटर की रिले रेस में मिली है.

एक बार 200 मीटर की दौड़ के बाद के 100 मीटर बोल्ट ने 9.26 सेकेंड में पूरे कर लिए. वहीं 2015 में 4 गुणा 100 मीटर की रिले रेस में बोल्ट ने अपने हिस्से के सौ मीटर की दौड़ केवल 8.65 सेकेंड में पूरी कर ली थी.

मगर उम्र और चोटों ने यूसेन बोल्ट की रफ़्तार धीमी कर दी है. इस वक़्त बोल्ट की उम्र 31 साल है. सीज़न में उनके दौड़ने की रफ़्तार कम हुई है. वो कई मुक़ाबले हारे हैं. 2016 में 100 मीटर की दौड़ बोल्ट ने 9.81 सेकेंड में पूरी की थी. वहीं 200 मीटर की दौड़ 19.78 सेकेंड में. दोनों ही टाइम ख़ुद बोल्ट के रिकॉर्ड के लिहाज़ से ज़्यादा हैं. ये बात और है कि वो दोनों ही मुक़ाबले जीत गए थे.

7. आख़िर इतना तेज़ कैसे दौड़ लेते हैं यूसेन बोल्ट? इस सवाल का कोई ठोस जवाब तो नहीं है. मगर एक रिसर्च के मुताबिक़ इसकी बड़ी वजह उनकी 6 फुट 5 इंच की लंबाई है.

हालांकि धावकों का ज़्यादा लंबा होना उनके लिए नुक़सानदेह माना जाता है. ख़ास तौर से दौड़ की शुरुआत में उन्हें नुक़सान उठाना पड़ सकता है.

लेकिन दौड़ के बीच में लंबाई की वजह से बोल्ट बाक़ियों के मुक़ाबले आगे निकल जाते हैं.

8. कितनी लंबी होती है बोल्ट की छलांग? इसका जवाब ये है कि उनकी एक छलांग क़रीब 2.47 मीटर की होती है. ये उनके मुक़ाबले में दौड़ने वालों की तुलना में 20 सेंटीमीटर ज़्यादा है. वो लगातार लंबी छलांग भरते हैं. ये दोनों ही बातें मिलकर उनके प्रतिद्वंदियों को पीछे छोड़ने में मददगार साबित होती हैं.

जब यूसेन बोल्ट ने 100 मीटर की दौड़ का विश्व रिकॉर्ड बनाया था, तो उन्होने 41 से भी कम क़दमों में दौड़ पूरी कर ली थी. वहीं दूसरे धावकों ने ये दूरी 45 या ज़्यादा छलांगों की मदद से पूरी की.

9. कहा जाता है कि लंबे एथलीट दौड़ की शुरुआत धीमी करते हैं. मगर बोल्ट के मामले में ये बात बार-बार ग़लत साबित हुई. ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप में बोल्ट दूसरे धावकों के मुक़ाबले धीमी शुरुआत करते हैं. मगर वो रेस के दौरान ये कमी पूरी कर लेते हैं.

अमरीकी एथलीट माइकल जॉनसन कहते हैं कि बोल्ट बाक़ी दौड़ने वालों की तरह रेस के बीच में बहुत तेज़ रफ़्तार पकड़ लेते हैं.

हालांकि 100 मीटर की जिस रेस में बोल्ट ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था, उसमें वो लगातार आगे रहे थे. वो अपने सबसे नज़दीकी प्रतिद्वंदी से क़रीब 20 मीटर आगे थे.

हालांकि लंदन में विश्व चैंपियनशिप के दौरान बोल्ट की रफ़्तार धीमी दिखी.

10. यूसेन बोल्ट सिर्फ़ दौड़ने के लिए मशहूर नहीं हैं. वो कई और वजहों से भी सुर्ख़ियों में रहे हैं. जैसे वो हमेशा बिजली जैसी फ़ुर्ती वाली पोज़ देते हैं. ट्रैक में वो अक्सर यूं ही टहलते दिखते हैं. बीजिंग ओलंपिक के दौरान बोल्ट ने दावा किया था कि उन्होंने 1000 चिकेन नगेट खाए थे. उनका खिलंदड़ बर्ताव लोगों को अपनी तरफ़ खींचता है.

कई बार वो विवादों में भी रहे हैं. ख़ास तौर से अपने दिखावे की आदत की वजह से. लेकिन अपने फैन्स के बीच बोल्ट आज भी बेहद लोकप्रिय हैं.

आज की तारीख़ में यूसेन बोल्ट दुनिया के सबसे लोकप्रिय एथलीट कहे जाते हैं. सोशल मीडिया पर भी उनके चाहने वालों की अच्छी ख़ासी तादाद है. फ़ेसबुक पर बोल्ट को क़रीब दो करोड़ लोग फॉलो करते हैं. वहीं इंस्टाग्राम पर 71 लाख लोग उनके फॉलोवर हैं, तो ट्विटर पर ये तादाद 47 लाख से भी ज़्यादा है.

शोहरत की वजह से यूसेन बोल्ट के पास ढेर सारे स्पॉन्सर हैं. जैसे प्यूमा, मम शैंपेन, एडविल और दूसरे प्रायोजकों की वजह से 2016-17 में बोल्ट ने क़रीब साढ़े तीन करोड़ डॉलर कमाए थे. फोर्ब्स की सेलेब्रिटी लिस्ट में बोल्ट 88वें नंबर पर हैं.

वो अपने फाउंडेशन की मदद से कई चैरिटी को मदद करते हैं. उन्होंने कई सालों तक अपने पुराने हाई स्कूल की मदद की थी.

तो अब रिटायरमेंट के बाद क्या करेंगे यूसेन बोल्ट?

ख़ुद बोल्ट कहते हैं कि वो कुछ दिन आराम करना चाहेंगे. अपनी ज़िंदगी का लुत्फ़ लेना चाहेंगे.

इसके बाद वो दूसरे रोल में एथलेटिक्स की दुनिया में दिख सकते हैं.

इसमें कोई दो राय नहीं कि जब भी दौड़ के मुक़ाबले होंगे, लोगों को यूसेन बोल्ट याद आएंगे.

IAAF के प्रमुख लॉर्ड को ने हाल ही में कहा था कि खेल की दुनिया में ऐसे इंसान कम ही मिलते हैं. ऐसे खिलाड़ी की कमी हमेशा खलेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)