ब्रिटेन: स्टेडियम में एंट्री से पहले गार्ड ने महिलाओं से कहा- ''ब्रा दिखाओ''

फ़ुटबॉल मैच इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्रिटेन के एक फुटबॉल फ़ैन ग्रुप ने आरोप लगाया है कि एक मैच से पहले स्टेडियम में सुरक्षा जांच के नाम पर महिला प्रशंसकों को ब्रा दिखाने के लिए कहा गया.

स्टीवनेज एफसी को लिखे पत्र में ग्रिम्सबी टाउन फ़ैन ग्रुप मारिनर्स ट्रस्ट ने ये आरोप लगाए.

पत्र में कहा गया कि लैमेक्स स्टेडियम पहुंची कुछ महिलाओं से सुरक्षाकर्मियों ने सवाल किया कि क्या वो उनकी ब्रा देख सकते हैं. महिलाओं ने अंडरवायर ब्रा पहन रखी थी.

स्टीवनेज एफसी ने कहा कि उन्हें पता चला था कि कुछ ख़तरनाक ग्रुप भी स्टेडियम में आ सकते हैं.

क्लब ने कहा कि इस बात की आशंका जताई गई थी कि स्टेडियम में प्रतिबंधित सामान लाया जा सकता है. इसके लिए महिलाओं और युवा प्रशंसकों का इस्तेमाल किए जाने की भी आशंका थी.

बदसलूकी के आरोपों पर क्लब ने कहा किसी भी महिला से ग़लत व्यवहार किए जाने की घटना सामने नहीं आई है. हालांकि आरोपों को लेकर क्लब सीसीटीवी फुटेज की जांच करेगा कि कहीं कोई गड़बड़ी तो नहीं हुई.

इमेज कॉपीरइट PA

''निजता का हनन''

ट्रस्ट ने आरोप लगाया, ''महिलाओं की तलाशी महिला सुरक्षाकर्मियों ने ही ली लेकिन वहां पर पुरुष सुरक्षाकर्मी भी मौजूद थे.'' सुरक्षाकर्मियों पर निजता के हनन का आरोप लगा है.

समर्थकों ने पत्र में आरोप लगाया कि कुछ सुरक्षाकर्मियों ने महिलाओं से सवाल किया कि ''क्या वे उनकी ब्रा छू सकती हैं.'', जब उन्होंने बताया कि उन्होंने अंडरवायर ब्रा पहन रखी है.

यह भी आरोप लगा कि चेकिंग के दौरान छोटे-छोटे बच्चों के भी पूरे शरीर को स्कैन किया गया और उन सारी चीज़ों को चेक किया गया जो प्रतिबंधित सामान की लिस्ट में शामिल भी नहीं थीं. इनमें कॉन्टैक्ट लेंस और दवाइयां तक शामिल हैं.

युवराज-रैना को बाहर करने वाला 'यो-यो'?

ट्रांसजेंडर बॉक्सर जो मर्दों पर भारी पड़ती हैं

इमेज कॉपीरइट PA

''बदतर अनुभव''

पत्र में यह भी कहा गया कि स्टेडियम में बने पुरुष टॉयलेट में महिला गार्ड तैनात की गई थी, जब उन्हें बाहर जाने के लिए कहा गया तो उन्होंने इनकार कर दिया.

फ़ैन ग्रुप ने कहा कि टॉयलेट के बाहर कई पुरुष सुरक्षाकर्मी और पुलिस अधिकारी मौजूद थे, इसके बावजूद महिला सुरक्षाकर्मी को वहां तैनात किया गया था.

मरीनर्स ट्रस्ट बोर्ड के सदस्य पॉल सैवेज ने बीबीसी को बताया कि स्टेडियम में जाने के लिए लाइन में खड़े 800 लोगों में वह भी शामिल थे.

उन्होंने कहा, सुरक्षाकर्मियों ने 30 से 70 साल तक की महिलाओं को ब्रा दिखाने के लिए कहा, हालांकि महिलाओं ने इनकार कर दिया.

ट्रस्ट ने इसे अब तक सबसे बदतर अनुभव क़रार दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे